राज चौधरी, पठानकोट : करीब तीन माह पहले रेहान स्कूल में हृदय विदारक घटना में सात साल के प्रद्यूमन की मौत के बाद स्कूलों में सुरक्षा प्रबंधों को यकीनी बनाने के लिए शिक्षा विभाग की ओर से आदेश जारी किए गए। इन आदेशों के माध्यम से शिक्षा विभाग की ओर से जिले भर के समस्त स्कूल प्रबन्धकों तथा स्कूल मुखियों को पत्र जारी किया गया है। इस पत्र के माध्यम से जहां एक ओर पिछले तीन साल में स्कूली वाहनों के कारण हुए हादसों की रिपोर्ट मांगी गई है वहीं दूसरी ओर बच्चों की सुरक्षा के लिए स्कूल स्तर पर किए गए प्रबंधों का ब्यौरा भी मांगा गया। ये जानकारी आगामी तीन दिन के भीतर देने को कहा गया है।

बताना होगा स्कूल में कितने ट्रैफिक सेमिनार लगाए

शिक्षा अधिकारियों की ओर से जारी किए गए इस पत्र में शैक्षणिक संस्थान की ओर से साल भर में ट्रैफिक एजुकेशन नियमों की जानकारी देने के लिए लगाए गए कैंपों का ब्यौरा भी मांगा गया है। स्कूल मुखियों को इस डाटा के अधीन इस बात को बताना होगा कि बच्चों को ट्रैफिक नियमों की जानकारी देने के लिए किस अधिकारी की अध्यक्षता में तथा किस विभाग की ओर से ट्रैफिक एजुकेशन नियमों की जानकारी दी गई।

स्कूल में हथियार न लाने के भी हैं निर्देश

एसएसपी पठानकोट विवेकशील सोनी ने भी समूह स्कूल मुखियों की एक विशेष बैठक बुलाकर उन्हें आर्म फ्री शैक्षणिक संस्थान बनाने के लिये बुलाया गया था। इस बैठक का मुख्य उद्देश्य बच्चों को भयमुक्त बनाकर उनका ध्यान सिर्फ पढ़ाई पर केन्द्रित करने के लिए कहा गया था। बैठक में ये भी कहा गया था कि अकसर ही स्कूल, कॉलेज में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में कुछेक विद्यार्थियों के अभिभावक व रिश्तेदार लाइसेंस शुद्धा हथियार ले आते हैं। इससे अन्य विद्यार्थियों के मन में भय का माहौल पैदा होता है।

तीन दिन में रिपोर्ट करनी है जारी : संजीव शर्मा

इस बात की पुष्टि जिला एजुकेशन रिप्रेंजेटेटिव संजीव शर्मा ने की। उन्होंने कहा कि जारी किए गए इस पत्र के माध्यम से जिले भर के समस्त स्कूल मुखियों को सुरक्षा प्रबंधों की रिपोर्ट तीन दिन में जारी करनी है। इसके साथ-साथ स्कूल में कैमरे लगवाने के लिए कहा गया है। उन्हें कहा गया है कि वह लगवाने के तत्काल बाद इसकी रिपोर्ट अधिकारियों को भेज देंगे। उन्होंने माना कि जिले भर के स्कूलों में फिलहाल स्कूली वाहनों के कारण कोई बड़ा हादसा न के बराबर हुआ है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!