नवीन कुमार, विनोद कुमार, पठानकोट: पंज पीर बाबा चौक से चक्की क्वारी तक रेलवे ट्रैक के दोनों तरफ 10-10 फीट जमीन का मालिक कौन है। इसका पता लगाए बिना ही पीडब्ल्यूडी ने 3.46 करोड़ रुपये का बजट पास कर दिया। रेलवे के विरोध के बावजूद चोरी छिपे 30 से 35 फीसद काम को भी पूरा कर लिया। अब रेलवे ने जीआरपी और डीसी को शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की है। उधर पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों का कहना है कि जहां पर रोड बनाई जा रही है उसका मालिकाना हक निगम के पास है। रेलवे बेवजह उनके काम में अड़चन डाल कर परेशान कर रहा है। वोटबैंक खिसक न जाए इसलिए विपक्ष भी चुप

दरअसल, इस मामले की असली वजह राजनीति है। अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। पंज पीर बाबा से लेकर चक्की क्वारी तक करीब डेढ़ किलोमीटर तक बनने वाले रोड को शहर के चार वार्ड लगते हैं। वार्ड नंबर 20, 21, 22 व 12 के अधीन करीब 40 हजार की आबादी है। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को यहां से अच्छी खासी वोट मिली थी। निकाय चुनाव में चारों सीटों पर कांग्रेस के उम्मीदवारों ने जीत हासिल की। चार वार्डों के अधीन करीब बीस हजार मतदाता आते हैं। मामला लोगों से जुड़ा होने की वजह से विपक्ष भी मौजूदा सत्ता पक्ष के नेताओं द्वारा करवाए जा रहे कार्यों पर सवाल खड़े नहीं कर रहे है। विपक्ष को भी डर सता रहा है कि अगर वह मामले को लेकर सामने आते हैं तो आने वाले चुनाव में उन्हें लोगों के विरोध का सामना करना पड़ेगा। इसलिए सामने आना उचित नहीं है।

3.46 करोड़ से पीडब्ल्यूडी करवा रहा है काम

पठानकोट रेलवे द्वारा रेलवे यार्ड से लेकर चक्की क्वारी तक अंग्रेजों के टाइम में बने रेलवे ट्रैक को करीब छह महीने पहले बदलने काम शुरू हुआ था जो 70 फीसद तक हो चुका है। ट्रैक बदलने के कारण इसकी ऊंचाई बढ़ गई थी। इसके बाद प्रीतनगर, रामपुरा, भदरोया, ओंकार नगर सहित करीब एक दर्जन मोहल्लों की 40 हजार आबादी दो भागों में बंट गई थी। ट्रैक के दोनों ओर रोड बनाने के लिए सरकार से विशेष फंड की मांग की गई। फंड मिलने के बाद विगत जनवरी में 3.46 करोड़ के काम का टेंडर पीडब्लयूडी को अलाट किया गया। पीडब्लयूडी ने काम शुरू किया तो रेलवे ने यह कह कर तीन बार रुकवा दिया है कि निर्माणाधीन जगह उनकी है। इसलिए बिना अनुमति वह किसी भी कीमत पर सड़क नहीं बनने देंगे। सड़क बनने से ट्रैक की मेंटेनेंस में होगी दिक्कत : रेलवे अधिकारी

रेलवे की इंजीनियरिग विभाग के अधिकारी ने बताया कि पीडब्लयूडी उनकी जमीन पर रोड का निर्माण करवा रहा है। पिछले चार महीनों में तीन बार हमारी टीम ने जीआरपी-आरपीफ की मौजूदगी में काम को रुकवाया है। समस्या को लेकर वह डीसी पठानकोट, एसएसपी, जीआरपी, आरपीएफ व अपने उच्चाधिकारियों को अवगत करवा चुके हैं। जब भी मौके पर जाते हैं तो स्थानीय लोग खुद आगे आने के बजाय महिलाओं को आगे कर देते हैं। ट्रैक के पास इंटरलाकिग टाइलें अथवा ड्रेनेज बनने के बाद ट्रैक की मेंटेनेंटस करने में भारी दिक्कतें आएंगी। ट्रैक पर ट्रेन दौड़ती है जिससे आने वाले दिनों में खतरा पैदा हो सकता है।

तकनीकी रिपोर्ट : 25 फीसद काम हो चुका

पंज पीर बाबा से चक्की क्वारी तक कुल डेढ़ किलोमीटर सड़क बनाई जा रही है, जिसका पच्चीस फीसद तक हो चुका है कार्य पूरा। सड़क की चौड़ाई दोनों ओर दस फीट है। बीच में पानी की निकासी के लिए एक पुली भी बनाई जा रही है। रेल ट्रैक से सड़क की की दूरी करीब तीन फीट है। सड़क बनने के नुकसान

रेल ट्रैक पर ट्रेनें तेज गति से दौड़ती हैं, जिससे आने वाले दिनों में लोगों के लिए खतरा पैदा हो सकता है। आने वाले समय में रोड ऊंची हो जाएगी तो पानी की निकासी दुविधा बन जाएगी।ट्रैक के पास इंटरलाकिग टाइलें की सड़क तथा ड्रेनेज बनने के बाद पानी ट्रैक के बीच आएगा। इसके अलावा ट्रैक की मेंटेनेंस करने में भारी दिक्कतें आएंगी। पीडब्लयूडी के एसडीओ राघव खजूरिया बोले- अपनी हदबंदी में करा रहे काम

प्रश्न. चक्की क्वारी ट्रैक के पास चल रहा काम आप रेलवे की जमीन पर करवा रहे हैं?

उत्तर- नहीं, अपनी हदबंदी में करवाया जा रहा है।

प्रश्न. तो फिर रेलवे क्यों बार-बार काम को रुकवा रहा है ?

उत्तर-हमने ट्रैक के पास एक अपनी बाउंड्री बनाई है, जिसके दायरे में रह कर काम किया जा रहा है।

प्रश्न. रेलवे का कहना है कि वह अपनी बाउंड्री में निर्माण नहीं होने देंगे ?

उत्तर-ठीक है, इसी कारण काम रोका है।

प्रश्न. रेलवे का कहना है कि इस संबंधी जिला प्रशासन को लिख दिया है?

उत्तर-ठीक है, हायर अथारिटी जैसा उन्हें आदेश करेगी उसी के आधार पर वह काम करवाएंगे।

जीआरपी के थाना प्रभारी सुखविंदर सिंह ने कहा- पहले भी रुकवा चुके हैं काम

प्रश्न. पीब्डल्यूडी द्वारा चक्की क्वारी ट्रैक के साथ-साथ रेलवे की जमीन पर काम करवा रही है विभाग ने क्या कार्रवाई की है?

उत्तर-कुछ दिन पहले ही चार्ज लिया है। सारी हिस्ट्री पूरी तरह मालूम नहीं है, लेकिन चार दिन पहले चल रहे काम को रुकवाया है। प्रश्न. बिना परमिशन काम करने वालों पर क्या कार्रवाई की गई?

उत्तर- जब तक मामले का पता नहीं चलता तब तक एक तरफा कार्रवाई नहीं की जा सकती। प्रश्न जीआरपी क्या करेगी ?

उत्तर-जीआरपी का काम कानून व्यवस्था कायम रखना है जो किया है। काम को रुकवा दिया गया है ताकि किसी किस्म का कोई झगड़ा न हो। प्रश्न. क्या कार्रवाई होगी ?

उत्तर- जमीन किसकी है का जब पता चलेगा तो उसके बाद जो भी गलत पाया गया उसके खिलाफ जो भी कानूनी प्रक्रिया होगी उसके तहत कार्रवाई होगी।

Edited By: Jagran