राज चौधरी, पठानकोट : शहर की चरमराई ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए अवैध ऑटो के खिलाफ दो माह पहले मुहिम शुरू हुई थी जिसके तहत शनिवार को फिर से सख्ती नजर आई। पुलिस ने बाहरी ऑटो चालकों पर सख्ती करने तथा कागजात जांचने के लिए कुल नौ जगहों पर नाके लगाए गए। नाकों पर 26 ऑटो चालकों के चालान काटे गए तथा छह ऑटो जब्त किए गए। यह नाके शहर के एंट्रेंस प्वाइंट पर लगाए गए ताकि शहर में एंट्री होने से पहले ही इन ऑटो चालकों को रोका जा सके। इन-इन जगहों पर लगाए नाके

अबरोल नगर

खड्डी पुल

सिबंल चौक

चक्की पुल

शहीद भगत सिंह चौक

बाल्मीकि चौक

बस स्टैंड

लाइटों वाला चौक

पीर बाबा चौक

आठ साल पहले 100-100 रुपये लेकर हुई थी रजिस्ट्रेशन

आठ साल पहले उस समय नगर कौंसिल ने शहर में बढ़ रही ऑटो की संख्या को लेकर साढ़े चार सौ ऑटो चालकों की रजिस्ट्रेशन की थी। इन ऑटो चालकों को आश्वासन दिया गया था कि उन्हें शहर में जगह-जगह पर ऑटो स्टैंड बनाकर दिए जाएंगे। इन स्टैंड से चलने वाले ऑटो चालकों को रूट दिया जाएगा। कुछ ही दिनों के बाद पठानकोट के साथ लगते दीनानगर,गुरदासपुर तथा बटाला तक से आकर पठानकोट में ऑटो चलने शुरू हो गए। ये आंकड़ा अब धीरे-धीरे बढ़ता गया तथा अब पठानकोट के साथ लगते नूरपुर,घरोटा,जुगियाल इत्यादि क्षेत्रों से बड़ी संख्या में ऑटो चालक पठानकोट आकर दिन भर ऑटो चला रहे है। ट्रैफिक को सुचारू बनाने के लिए जारी रही प्रक्रिया : डीएसपी

डीएसपी सिटी राजेंद्र मन्हास ने कहा कि जिला की ट्रैफिक व्यवसथा के बढ़ने का सबसे बढ़ा कारण सड़कों पर बढ़ता वाहनों का बोझ है। इसमें बाहरी क्षेत्रों से चलने वाले ऑटो की बहुतात संख्या थी। पुलिस की ओर से इनके खिलाफ करीब दो माह पहले भी अभियान शुरू किया गया था जिसके बाद इन्हें काफी हद तक नियंत्रित कर लिया गया था। इसके बाद आज पुन: औचक नाकाबंदी कर इनके खिलाफ सख्ती की गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!