संवाद सूत्र, सरना : नगर निगम के अधीन आते वार्ड नंबर 42 गांव जमालपुर में इसे लंबे समय से वार्ड वासियों को समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। वार्ड वासियों ने नगर निगम पार्षद खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन्होंने कहा वार्ड की सड़कें टूटी हुई हैं। वाटर सप्लाई का पानी नहीं आता। बार-बार कहने के बावजूद भी समस्या वहीं के वहीं हैं। सीवरेज का काम पर से लंबे समय से लगे होने के कारण लोगों को पानी से भी वंचित रहना पड़ रहा है। सीवरेज के मेनहोल के ढक्कन खुले हुए हैं, जिससे कोई हादसा होने का खतरा बना हुआ है। चुनाव होने से पहले वार्ड में दो कर्मचारी सफाई के लिए आते थे, लेकिन चुनाव होने के बाद एक भी कर्मचारी गांव वार्ड में सफाई के लिए नहीं आया, जिसके कारण जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हैं। वार्ड वासियों को खुद ही सफाई करनी पड़ती है, लेकिन पार्षद ने एक भी बार वार्ड में चक्कर नहीं लगाया।

इस मौके पर वार्ड नंबर 42 गांव जमालपुर के लोगों को कहना है कि जब से गांव जमालपुर को नगर निगम पठानकोट में शामिल किया गया है ट्रैकस बड़े-बड़े लगा दिए गए लेकिन सुविधाओं के नाम पर बिलकुल जीरो है। इस मौके पर सरवन कुमार जनक राज दर्शन सिंह अमरजीत कौर रानी गीता जसविदर रामप्यारी रजनी बाला आशा देवी दिलबाग आदि का कहना है कि सरकार के दावे सिर्फ कागजों में हैं पिछले लंबे समय से क्षेत्र का विकास तो दूर सड़क टूटी है। नालियों टूटी हुई है लेकिन विकास नहीं हुआ। इस संबंध में जिला पार्षद अजय महाजन से बात की गई तो ने कहा बार-बार सीवरेज एसडीओ से बात करने के बाद भी समस्या का हल नहीं हुआ वह भूख हड़ताल पर बैठेंगे।

Edited By: Jagran