संवाद सहयोगी, घरोटा: गुलपुर-चक्की दरिया पर बने घरोटा पुल के धंसने के कारण छह गांवों का संपर्क टूटा हुआ है। वहीं एक माह बीतने के बाद भी विभाग ने कोई वैकल्पिक व्यवस्था उपलब्ध नहीं करवाई है। इस कारण लोग परेशान हो रहे हैं। वे अतिरिक्त मार्गों से सात किलोमीटर का सफर तय करके अपने खेतों तथा गांवों में जाने को विवश होना पड़ रहा है।

कुलदीप सिंह, कैप्टन सुभाष सिंह, कैप्टन परषोत्तम, मास्टर सोम नाथ, कैप्टन किशन सिंह, दयाल सिंह, दर्शन सिंह, शक्ति सिंह, किरपाल सिंह ने कहा कि गुलपुर-चक्की दरिया नहर अपरबारी दोआब से निकलता है। यह सिल्ट इजेक्टर से निकल कर वाया घरोटा होकर व्यास चक्की में गिरता है। पिछले लंबे समय से घरोटा पुल के रख रखाव की कमी के चलते पुल की यह हालत है। 13 मई को गुलपुर चक्की दरिया का घरोटा स्थित पुल का किनारा धंसने के चलते दोनों ओर बसे छह गांवों का आपस में संपर्क टूट गया। यह पुल वर्ष 2000 में बना था। तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल व पूर्व मंत्री सतपाल सैनी की ओर इस पुल का उद्घाटन किया था। चक्की दरिया में हो रही माइनिग के चलते इस पुल के पिल्लर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। वहीं भूमि कटाव से किनारे व पुल क्षतिग्रस्त हो गया है।

लोगों का कहना है कि जब तक पक्के पुल का निर्माण नहीं होता तब तक लोगों को आने-जाने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाए, ताकि लोगों को वाया छावला होकर अतिरिक्त मार्ग से गुजर जाने से छुटकारा मिल सके।

Edited By: Jagran