संवाद सहयोगी, जुगियाल: बुधवार को शाहपुरकंडी में सरकारी क्वार्टरों को खाली करवाने की अनाउंसमेंट से 40 वर्षीय सुनील कुमाल की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। रोष स्वरूप मृतक के स्वजनों, क्षेत्रवासियों और संयुक्त एक्शन कमेटी ने वीरवार को तरेहटी बैरियर के पास शव सड़क पर रखकर रोड जाम कर दिया और बांध प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

संयुक्त एक्शन कमेटी की ओर से संयुक्त कन्वीनर रोशन लाल भगत की अध्यक्षता में करीब सात घंटे तक प्रदर्शन जारी रहा है। धरना सुबह 10:00 बजे से शुरू होकर देर दोपहर 4:00 बजे तक चला। धरने में हलका सुजानपुर के विधायक नरेश पुरी, पूर्व विधायक एवं पंजाब के पूर्व डिप्टी स्पीकर दिनेश सिंह बब्बू, जिला भाजपा अध्यक्ष विजय शर्मा, प्रदेश युवा मोर्चा कार्यकारिणी के प्रदेश सचिव दीपांशु घई, पूर्व पठानकोट मार्केट कमेटी के चेयरमैन गबन घई, भारतीय मजदूर संघ के जिला एवं प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य ओपी वर्मा, भारतीय मजदूर संघ के स्थानीय अध्यक्ष अशोक शर्मा सहित कई अन्य नेताओं ने भी भाग लिया।

धरने को संबोधित करते हुए कर्मचारी एवं अन्य नेताओं ने कहा कि बांध परियोजना के मुख्य अभियंता लाल फीती फरमान जारी कर रहे हैं जो हिटलर के जमाने को दर्शाता है। बांध परियोजना के क्वार्टरों में लगभग 100 से अधिक सेवामुक्त कर्मचारी अपने रिश्तेदारों के पास रह रहे हैं। इसके अलावा कुछ कर्मचारियों के परिवार मृतकों स्वजन का मुआवजा न मिलने के चलते उन्हें अलाट हुए क्वार्टर में रह रहे हैं। बांध प्रशासन इसको अवैध रूप में मानकर उनको नोटिस जारी कर रहा है। जिन लोगों ने अपने नाम पर क्वार्टर अलाट करवाए हैं, उनको भारी रकम जुर्माने के रूप में अदा करने की धमकी दे रहा है जो सरासर तानाशाही फरमान है। कार्यरत सभी कर्मचारी अपने वेतन से क्वार्टरों का किराया भरते हैं। बिजली और पानी के बिल भी बांध प्रशासन को अदा करते हैं तथा अगर उनका कोई भाई बहन या अन्य रिश्तेदार उनके घर रहना चाहिए तो बांध प्रशासन को क्या एतराज है। बांध प्रशासन और सरकार के खाते में किराया और बिजली का बिल आ रहा है जिसमें किसी किस्म की कोई भी परेशानी नहीं है। उन्होंने कहा कि कालोनी क्षेत्र में जिस आटो द्वारा क्वार्टर खाली करवाने की अनाउंसमेंट की गई थी उस आटो के द्वारा ना तो परमिशन ली गई और ना ही बांध प्रशासन की ओर से कोई लिखित आदेश दिया गया था। उन्होंने बांध परियोजना के एक कर्मचारी का नाम लेते हुए कहा कि वह कर्मचारी अपनी निजी रंजिश के कारण यह सब कर रहा है। इस मौके पर उन्होंने उस कर्मचारी के ऊपर धारा 302 के तहत मामला दर्ज करवाने की मांग भी की।

इसके बाद बांध प्रशासन की ओर से बांध परियोजना के संयुक्त एक्शन कमेटी के सदस्यों के साथ एक विशेष बैठक माननीय एसडीएम धार कलां, नायब तहसीलदार, डीएसपी रजिदर मन्हास, पूर्व विधायक दिनेश सिंह बब्बू, जिला अध्यक्ष भाजपा विजय शर्मा ने बांध परियोजना के अधिकारियों के साथ बैंठक कर धरने को समाप्त करवाया। बांध पर महाप्रबंधक लगाना भी गलत

आगे उन्होंने कहा कि बांध परियोजना पर महाप्रबंधक की पोस्ट नहीं होती है क्योंकि इस बांध पर कर्मचारियों की संख्या के ऊपर महाप्रबंधक की पोस्ट क्रिएट करवाई जाती है, लेकिन नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए पंजाब सरकार की ओर से बांध परियोजना पर महाप्रबंधक की पोस्ट माननीय कर वहां पर महाप्रबंधक लगाया गया जो सरासर गलत है। मुख्य अभियंता एवं महाप्रबंधक की सीबीआइ जांच कराने की मांग

उन्होंने मुख्य अभियंता पर भी आरोप लगाते हुए कहा कि नियमावली के अनुसार इस समय मुख्य अभियंता का कार्य करते हुए मुख्य अभियंता बांध परियोजना पर भी अमान्य है, क्योंकि इस समय मुख्य अभियंता का कार्यभार संभालने वाले मुख्य अभियंता कागजों में मुख्य अभियंता नहीं है। वह मात्र सीनियर सुपरिटेंडेंट इंजीनियर है और उनको सीडीसी का चार्ज दिया गया है। इस कारण वह अपनी दी गई पोस्ट का दु‌र्व्यवहार करते हुए लाल फीती ऑर्डर जारी कर रहे हैं। उन्होंने मांग की की मुख्य अभियंता एवं महाप्रबंधक रणजीत सागर बांध परियोजना की जांच सीबीआई से करवाई जाए। कर्मचारियों के साथ धक्का नहीं होने देंगे: विधायक पुरी

विधायक नरेश पुरी ने कहा कि सरकार कर्मचारियों के साथ धक्के शाही कर रही है। उनके पिता स्वर्गीय रघुनाथ सहाय पुरी ने रणजीत सागर बांध परियोजना के कर्मचारियों को पक्का करवाने में अनथक मेहनत की थी। इस कारण आज रणजीत सागर बांध परियोजना के कर्मचारी अपनी रोजी-रोटी चला रहे हैं। कर्मचारियों के साथ किसी भी किस्म का धक्का नहीं होने दिया जाएगा। वह हर हाल में रणजीत सागर बांध परियोजना और शाहपुर कंडी बांध परियोजना के कर्मचारियों के साथ दिन और रात खड़े हैं। मुख्य अभियंता धक्केशाही कर रहा: पूर्व विधायक बब्बू

पूर्व डिप्टी स्पीकर एवं पूर्व विधायक दिनेश सिंह बब्बू ने कहा कि बांध परियोजना के मुख्य अभियंता की ओर से रणजीत सागर बांध परियोजना और शाहपुर कंडी बांध परियोजना के कर्मचारियों के साथ धक्केशाही की जा रही है। वह हर हाल में दिन और रात इन कर्मचारियों के साथ खड़े हैं क्योंकि यही उनका परिवार है और परिवार के हर सुख दुख में सुहाय होना उनका परम कर्तव्य है। फोटो-40

नरेश और दिनेश एक मंच पर, बोले- कर्मचारियों की समस्या का स्थायी हल निकाला जाए

धरने में मृतक सुनील कुमार को श्रद्धांजलि देने के लिए विधायक नरेश पुरी और पूर्व विधायक दिनेश सिंह बब्बू इस दौरान एक मंच पर आए। उन्होंने बांध प्रशासन के नेताओं पर आरोप लगाते हुए कहा कि बांध प्रशासन के अधिकारी ब्यूरोक्रेट्स के आदेशों पर काम कर रहे हैं। उन्होंने अनाउंसमेंट करने वाले कर्मचारी पर धारा 302 का पर्चा दर्ज करने की बात कही। इसी के साथ बांध परियोजना के अधिकारियों को तथा लोकल एडमिनिस्ट्रेशन के उच्च अधिकारियों की मदद से इन कर्मचारियों का कोई स्थायी हल निकालने के लिए अपील की।

Edited By: Jagran