जागरण संवाददाता, पठानकोट: बकाया राशि 10 करोड़ से अधिक होने के बाद निगम की प्रापर्टी टैक्स ब्रांच ने बकाया धारकों को मोबाइल पर मैसेज भेजने शुरू कर दिए हैं। लोगों वाट्स एप व अन्य मोबाइल एप्स के जरिये की भी पेमेंट करने के बारे में जागरूक किया जा रहा है। मैसेज भेजकर डिफाल्टरों को अपना बकाया जल्द जमा करवाने के लिए कहा गया है।

प्रापर्टी टैक्स ब्रांच से दी गई जानकारी में कहा गया है कि इसके बावजूद यदि बकाया धारकों ने प्रापर्टी जमा नहीं करवाया तो उनके खिलाफ सीधे सीलिग की कार्रवाई की जाएगी। निगम अधिकारियों की मानें तो इंचार्ज निगम कमिश्नर की ओर से जारी निर्देशों में स्पष्ट किया गया है कि डिफाल्टरों पर सख्त कार्रवाई की जाए। बता दें कि इंचार्ज निगम कमिश्नर एवं जिला उपायुक्त हरबीर सिंह की ओर से शहर के विकास को पटरी पा लाने के लिए निगम को आर्थिक तौर पर मजबूत बनाने के लिए टैक्स देने वाले लोगों की संख्या बढ़ाने के भी निर्देश जारी किए गए हैं। नए इलाकों पर ज्यादा फोकस

प्रापर्टी टैक्स ब्रांच की ओर से दी गई जानकारी में कहा गया है कि बकाया धारकों में 30 प्रतिशत के करीब उपभोक्ता नए जुड़े इलाकों से संबंधित हैं। उक्त एरिया में रहने वालों पर करीब पौने दो करोड़ रुपये खड़े हैं। स्टाफ की कमी को देखते हुए डिफाल्टरों के पास पहुंच पाना मुश्किल है। इसी बात को देखते हुए डिफाल्टरों को मोबाइल के जरिये मैसेज भेजने का काम शुरू किया गया है। ब्रांच का कहना है कि सिटी के साथ-साथ नए जुड़े एरिया से बकाया राशि को रिकवर करना प्राथमिकता रहेगी।

इतने धारकों से आता है निगम को प्रा‌र्प्टी टैक्स

रेजिडेंशियल- 4800

नान रेजिडेंशियल- 8970

इंडस्ट्रीयल -620

मिक्स -1710

..........

इतनों को टैक्स से है छूट

रेजिडेंशियल-23100

नान रेजिडेंशियल-110

मिक्स-30 20,600 धारकों पर 10 करोड़ का बकाया

प्रापर्टी टैक्स ब्रांच के अधिकारियों का कहना है कि करीब 20,600 ऐसे डिफाल्टर चिन्हित किए गए हैं जिन्होंने अपना बकाया जमा नहीं करवाया है। इनमें से कुछ पर दो साल तो कुछ पर चार-पांच साल का बकाया है। डिफाल्टरों में 18 हजार के करीब रिहायशी व 2650 के करीब अन्य डिफाल्टर हैं। इन पर करीब 10 करोड़ रुपये का बकाया खड़ा है। घर बैठे टैक्स जमा करवा सकते हैं : सुपरिंटेंडेंट

निगम सुपरिंटेंडेंट इंद्रजीत सिंह ने कहा कि एक साथ 20 हजार लोगों को नोटिस भेजना मुश्किल था। इसी बात को देखते हुए डिफाल्टरों को दर्ज करवाए गए मोबाइल पर मैसेज भेजने का काम शुरू किया गया है। धारक को जहां जल्द अपना बकाया जमा करवाने के लिए कहा गया है, वहीं, घर बैठे अपने व्हाट्सएप के जरिये भी बकाया जमा कराने की सुविधा भी दी गई है।

Edited By: Jagran