जासं, पठानकोट : कूड़ा फेंकने वालों को अब चुपके से कूड़ा फैंकने की जरूरत नहीं है। नगर निगम की और से शहर के मुख्य बाजारों में डस्टबिन लगाने की मुहिम शुरू की गई है। सोमवार को निगम कार्यालय के बाहर दो डस्टबीन लगाकर अभियान की शुरुआत की गई। आने वाले दो-तीन दिनों के भीतर ही शहर के सभी मुख्य बाजारों में डस्टबीन लगाने का काम पूरा कर दिया जाएगा।

इस बात की जानकारी नगर निगम की हेल्थ ब्रांच के इंचार्ज डाक्टर एनके ¨सह ने की। स्वच्छ भारत- स्वस्थ भारत मिशन के तहत शहर के सभी मुख्य बाजारों के बाद एपीके रोड व ढांगू रोड एरिया को भी कवर किया जाएगा ताकि लोगों को कूड़ा फैंकने में दिक्कतों का सामना न करना पड़े। उधर, डस्टबीन लगाने पर व्यापार मंडल सहित शहर की सभी स्वयं सेवी, धार्मिक व समाजिक संस्थाओं के अलावा शहरवासियों ने सराहना की है।

जानकारी के अनुसार बाजारों व डस्टबीन न होने के कारण लोगों को कूड़ा वगैरह फैंकने में भारी दिक्कत आती थी। हालांकि, अधिकतर शहरवासी खूले में कूड़ा फैंकने पर गुरेज करते हैं लेकिन, बावजूद उसके जब डस्टबीन ही नहीं होगा तो उनके पास भी खुले में फैंकने के सिवाय कोई विकल्प नहीं होता। शहरवासियों खास तौर पर व्यापारियों की और से निगम को उक्त समस्या से अवगत करवाया जा रहा था कि उन्हें अपने कागज व अन्य स्टेशनी समान डस्टबीन न होने की वजह से खुले में फैंकने पड़ते हैं। क्योंकि, निगम की ट्राली वाले कर्मी सुबह- सुबह ही कूूड़ा लिफ्ट कर लेते हैं और दुकानें व आफिस तो दस बजे के बाद खुलते हैं। कारोबारियों का कहना था कि उन्होंने तो अपने पास डस्टबीन लगाए हुए हैं परंतु वह उसे डंप कहां करे। ऐसे में बाजार आने वाले लोग भी कई बार चलते-चलते केला व अन्य कोई वस्तु खाते हैं जिनके छीलके व कागज वगैरह फैंकना उनके लिए भारी मुसीबत बन जाता है। ऐसे में यदि मेन बाजारों में डस्टबीन लगा दिए जाए तो इससे यहां गंदगी कम होगी वहीं लोगों की समस्या का भी समाधान हो जाएगा। निगम ने शहरवासियों को पेश आ रही समस्या को ध्यान में रखते हुए बाजारों में डस्टबीन लगाने का काम शुरु किया है। निगम की और से सोमवार को निगम कार्यालय, माता आशापूर्णी मंदिर मोड, होटल एयरलाइन के पास डस्टबीन लगा दिए। मंगलवार से काम में तेजी लाते हुए दो दिनों में पंद्रह अन्य स्थानों पर दो-दो डस्टबीन लगाए दिए जाएंगे।

उधर, इस संदर्भ में जब निगम की हेल्थ ब्रांच के इंचार्ज डाक्टर एनके ¨सह से बात की तो उनका कहना था कि हलका-फुलका खाने के बाद लोगों अक्सर रैपर सड़क पर ही फैंक देते थे। कारण, निगम की और से केवल डं¨पग प्लेसों पर ही डंपर लगाए गए हैं। खुले में कूड़ा व रैपर होने के कारण यहां ज्यादा गंदगी लगती थी वहीं कर्मचारियों को भी कूड़ा इक्टठा करने में दिक्कत आती थी। इसी बात को ध्यान में रखते हुए निगम ने शहर के विभिन्न एरिया में डस्टबीन लगाने का फैसला किया है। पहले फेज के तहत शहर के ऐसे पंद्रह स्थानों का चयन किया गया हैं यहां पर लोगों को ज्यादा समस्या आती है। प्रत्येक प्वायंट पर दो-दो डस्टबीन लगाए गए हैं जिसके तहत एक में सूखा व एक में गीला कूड़ा डंप किया जा सकेगा। इसके बाद निगम ऐसे एरिया को चिन्हित करेगा यहां पर डस्टबीन की ज्यादा जरुरत है। पहले फेज में लगभग 1 लाख 40 हजार रुपए की राशि खर्च आई है। डस्टबीन लगने के बाद यहां गंदगी नहीं होगी, वहीं कर्मचारियों को भी कूड़ा उठाने में आसानी होगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!