संवाद सहयोगी, पठानकोट

जिला बाल सुरक्षा विभाग की तरफ से पठानकोट में मिले लापता बच्चे को उनके घर के लिए रवाना किया गया। जिला बाल सुरक्षा अधिकारी ऊषा ने बताया कि करीब 25 दिन पहले ऑटो चालक को एक बच्चा पठानकोट में बहुत बीमार हालत में मिला था और उस ऑटो चालक ने बच्चे को सरकारी अस्पताल इलाज के लिए दाखिल करवा दिया। बच्चे का अस्पताल में काफी दिनों पर इलाज चला और बाद में सिविल अस्पताल की तरफ से उसको सूचित किया गया। इस बच्चे की उम्र 12 साल है जो अपने बारे में कोई भी जानकारी नहीं दे पा रहा था। उन्होंने बताया कि विभाग की तरफ से एक टीम ने उस बच्चे से संपर्क किया और काउंस¨लग करने के बाद यह तथ्य सामने आया कि ये बच्चा महाराष्ट्र के नागपुर का रहने वाला है। बच्चे ने काउंस¨लग के दौरान बताया कि वह माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए गया था। बता दें कि बच्चे के माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है और बच्चा एक बंजारे कबीले के साथ रहता था। उन्होंने बताया कि नागपुर में संपर्क करने पर बच्चे की पूरी जानकारी प्राप्त की गई और डिप्टी कमिश्नर पठानकोट निलिमा के सहयोग के साथ बीती रात बच्चे की टिकट करवा कर विभागीय कर्मचारी और पुलिस पार्टी की व्यवस्था करके बच्चे को नागपुर चिल्ड्रन होम के लिए रवाना कर दिया गया है। उन्होंने शहरवासियों को अपील करते हुए कहा कि अगर कोई भी ऐसा लापता बच्चा मिलता है तो हेल्पलाइन नंबर 1098 या फिर मिनी सचिवालय मलिकपुर के ब्लॉक सी, कमरा नंबर 138 में स्थित जिला बाल सुरक्षा विभाग के कार्यालय में संपर्क करें ताकि लापता बच्चे को उनके परिवार तक पहुंचाया जा सके।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!