संवाद सहयोगी, पठानकोट

चार करोड़ रुपये के इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के घोटाले में एड एजेंसी के मालिक जतिन्द्र शर्मा की ओर से हाईकोर्ट में दायर की गई याचिका रद हो गई है। दूसरी तरफ विजिलेंस की ओर से जतिन्द्र के खिलाफ सेशन कोर्ट में भगोड़ा करार देने की याचिका पर 13 सितंबर को फैसला सुनाया जायेगा।

उधर, मामले में संलिप्त क्लर्क विशाल शर्मा की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी गई है। डीएसपी विजिलेंस नवजोत ¨सह ने बताया कि जतिन्द्र शर्मा को भगौड़ा करार दिये जाने के मामले पर 13 सितंबर को फैसला आ जायेगा। यदि उन्हें कोर्ट की ओर से भगौड़ा करार दिया जाता है तो सबसे पहले उन्हें पीओ घोषित किया जायेगा। इसके बाद उनकी संपति को कुर्क करने के लिये प्रक्रिया शुरू कर दी जायेगी। इसके साथ ही फरार चल रहे आरोपितों को काबू करने के लिये छापेमारी की जा रही है। इससे पहले 28 अगस्त को विजिलेंस की ओर से तत्कालीन ईओ जतिन्द्र ¨सह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था । सब जेल में उन्हें लगातार दौरे पड़ने के बाद सिविल अस्पताल में इलाज के लिये दाखिल करवाया गया। उनके साथ मामले का आरोपित एसडीओ विपिन कुमार भी सर्वाइकल पेन की वजह से सिविल अस्पताल में जेरे इलाज है। इस मामले के चार अन्य आरोपित ईओ अरविन्द् शर्मा, एड एजेंसी के मालिक सुरेन्द्र महाजन,जतिन्द्र शर्मा तथा क्लर्क विशाल अभी फरार है।

Posted By: Jagran