राज चौधरी, पठानकोट: दि हिदू कोऑपरेटिव बैंक ने बैंक के 37 डिफाल्टरों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कमर कस ली है। बैंक ने करोड़ों रुपये न चुकाने वाले 37 डिफाल्टरों के वारंट जारी कर दिए गए हैं। इनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए बैंक अधिकारियों की दस टीमों का गठन किया गया है। कई दफा नोटिस जारी करने के बाद भी इन डिफाल्टरों ने बैंक के साथ संपर्क नहीं साधा है। इन हालातों में बैंक प्रबंधन ने डिफाल्टरों को पकड़कर पैसा वसूलने व जेल में भेजने की तैयारी की है। वीरवार को डटे रहे अधिकारी

पंजाब स्टेट कोऑपरेटिव बैंक चंडीगढ़ के एमडी एसके वातिश की ओर से विभिन्न जिलों के पदाधिकारियों के साथ पांच घंटे से अधिक समय तक मीटिंग की गई। मीटिग में सुक्खा सिंह, एमडी गुरदासपुर मनवीर सिंह, डीआर पठानकोट नवनीत कौर, एआर सुनील कुमार काटल ने विशेष रूप से शिरकत की। इस मीटिंग में बैंक की पांचों ब्रांचों से दो-दो टीमें गठित की गई है जिनमें कर्मचारियों व पदाधिकारियों को शामिल किया गया है। बैठक में अमृतसर से मुख्य रूप से आए ज्वाइंट रजिस्ट्रार पलविद्र सिंह बल तथा एमडी पंजाब एसके वातिश ने सख्त निर्देश देते पदाधिकारियों को हिदायतें जारी की है कि किसी भी सूरत में एक सप्ताह के भीतर इन ड्रिफाल्टरों से बैंक की रिकवरी की जाए। यदि इनसे रिकवरी नहीं होती तो इन्हें काबू कर सीधा जेल की सलाखों के पीछे डाला जाए।

ज्वाइंट रजिस्ट्रार बलविद्र सिंह बल ने कहा कि बैंक का पैसा सभी डिफाल्टरों को चुकाना ही होगा। चाहे कोई भी बड़ा नेता हो या फिर कोई बड़ा उद्योगपति। आधे से ज्यादा लोन बड़े उघोगपति घरानों तथा राजनीतिक लोगों के पेंडिग-

बैंक के लिए डिफाल्टरों से लोन रिकवरी करना मुश्किल है। डिफाल्टरों की लिस्ट में आधे से ज्यादा डिफाल्टर राजनीतिक गलियारे से हैं। बैंक पर करीब 88 करोड़ रुपये की रिकवरी का बोझ है जो डिफाल्टरों से लेना है। इनमें से 37 करोड़ रुपए की रिकवरी विभागीय स्तर पर की जा चुकी है। वहीं 37 डिफाल्टरों से भी करीब 10 करोड़ रुपए की राशि एकत्र हो सकती है। इसके अलावा बड़े उद्योगपति घराने जो हर राजनीति पार्टी के साथ अच्छे संबंध रखते हैं उनके नाम भी डिफाल्टरों में शामिल हैं। ऐसे में सख्ती से की जाने वाली रिकवरी में अड़चन आ रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!