संवाद सहयोगी, पठानकोट : भारतीय सेना में शहीद हुए सैनिकों के परिजनों, युद्ध में दिव्यांग हुए पूर्व सैनिकों और आर्थिक तौर पर कमजोर पूर्व सैनिकों के परिजनों का हाल जानने के लिए संपर्क सम्मेलन करवाया गया। इस मौके पर शहीदों के परिजनों, वीर नारियों व पूर्व सैनिकों ने भारी संख्या में शिरकत की।

समारोह में 21 सब एरिया कमांडर ब्रिगेडियर जेएस बुधवर सेना मेडल बतौर मुख्य मेहमान शामिल हुए। इनके अलावा अशोक चक्र विजेता शहीद लेफ्टिनेंट त्रिवेणी सिंह की माता पुष्प लता, पिता कैप्टन अनमेज सिंह, जीओजी टीम के जिला प्रमुख रिटा. ब्रिगेडियर प्रहलाद सिंह, रिटा. ब्रिगेडियर कंवर कुलदीप सिंह आदि विशेष मेहमान के तौर पर शामिल हुए। समारोह में वेटरन सहायता केंद्र के अधिकारियों ने पूर्व सैनिकों, वीर नारियों को पेंशन, ईसीएच कार्ड व कैंटीन कार्ड सहित कई स्कीमों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि किसी भी पूर्व सैनिक व वीर नारी को कोई भी दिक्कत आती है तो वह अपने पूरे दस्तावेज के साथ वेटरन सहायता केंद्र में संपर्क कर सकता है। कमांडर ब्रिगेडियर जेएस बुधवर ने कहा कि शहीद परिवार, वीर नारियां, पूर्व सैनिक व उनके परिजन भारतीय सेना के अभिन्न अंग हैं। यह वर्ष भारतीय सेना ईयर आफ एनओके के रूप में मनाते हुए शहीद परिवारों, वीर नारियों, युद्ध में दिव्यांग हुए सैनिकों से संपर्क कर उनके घरों में जाकर उनका हाल जानते हुए यह एहसास करवाया है कि भारतीय सेना उनके साथ है। ब्रिगेडियर प्रलहाद सिंह व ब्रिगेडियर कंवर कुलदीप सिंह ने समारोह के आयोजन के लिए सब एरिया कमांडर का धन्यवाद किया। इस अवसर पर कर्नल वेटर्न वरिदर सिंह सिद्धू, कर्नल वीएसके महिदर राणा, कर्नल ए रविशंकर, शहीद सैनिक परिवार सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष रिटा. कर्नल सागर सिंह सलारिया, महासचिव कुंवर रविदर विक्की, कर्नल पीएस भंदराल, कर्नल सुनीत पठानिया, कर्नल आरके सलारिया आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!