संस, पठानकोट : पठानकोट-गुरदासपुर रोड पर स्थित यू नाइट होटल के साथ स्थित एसबीआइ के एटीएम में धोखे से लोगों के कार्ड स्वैप करने तथा पिन कोड लिखने के आरोप में काबू आरोपित अनिल कुमार एशियन गेम्स में गोल्ड मैडल प्राप्त कर चुका है। इस बात का खुलासा पुलिस की ओर से प्राथमिक पूछताछ के दौरान आरोपित ने किया है। आज रिमांड खत्म होने के बाद दोपहर को आरोपित अनिल कुमार को कोर्ट में पेश किया गया जहां उसे सब जेल पठानकोट भेज दिया गया। पुलिस जांच में फूट-फूट कर रोये आरोपित ने बताया कि वह नौकायन (नौका दौड़) में कुछ अर्सा पहले एशियन गेम्स में भाग लेते हुए गोल्ड मैडल जीत चुका है। वह इस टीम का अहम हिस्सा था परन्तु थोड़े समय में अधिक पैसा कमाने के लालच के कारण आज वह जेल की सलाखों के पीछे है। आरोपित ने पुलिस को बताया कि कुछ वर्ष पहले ही सेना से बीआरएस ली थी तथा उसे इन दिनों करीब 22 हजार रूपए पेंशन मिल रही है।

दिल्ली में अपनी सिक्योरिटी एजेंसी भी चलाता है आरोपित

पुलिस जांच में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि आरोपित अनिल कुमार तथा उसका एक अन्य साथी मुनीश कुमार मिल कर सिक्योरटी एजेंसी चलाने का कारोबार करते हैं। इन दोनों की मुलाकात भी कुछ समय पहले ही हुई थी। मुनीश ने अनिल को रिटायर्डमेंट के बाद सिक्योरटी एजेंसी शुरू कर कारोबार चलाने का सुझाव दिया था। बाद में कारोबार अच्छी तरह से न चलने के कारण ही इन दोनों ने आम लोगों को धोखा देकर एटीएम बदलने की प्रक्रिया शुरू कर धोखाधड़ी शुरू कर दी। इन दोनों का टारगेट पंजाब के विभिन्न हिस्सों में नेशनल हाइवे पर लगे एटीएम में आने वाले लोगों को धोखा देकर उनका कार्ड बदलना था।

आरोपित से पांच एटीएम कार्ड बरामद, बैंक से मांगी गई जानकारी

पुलिस को पूछताछ के दौरान आरोपित अनिल कुमार से विभिन्न बैंकों के पांच एटीएम कार्ड भी बरामद हुए हैं। हालांकि आरोपी सभी कार्डों को खुद के नाम पर इश्यू हुआ बता रहा है, लेकिन पुलिस ने एटीएम कार्ड से संबंधित बैंकों से जानकारी मांगी है । पुलिस को संदेह है कि ये कार्ड उक्त आरोपित की ओर से जाली तैयार किये गए हैं। बैंकों द्वारा जानकारी देने के उपरांत ही इस बात का पता चल सकेगा कि ये बैंक असली हैं अथवा आरोपित ने खुद बोगस तैयार किए गए है। पुलिस इस बात की जांच में भी जुटी हुई है कि आरोपित द्वारा सिक्योरटी एजेंसी चलाने के दौरान लोगों के एटीएम कार्ड धोखे से लेकर उन्हें शिकार तो नहीं बनाया गया।

साथी को काबू करने के लिए रेड

उधर,इस मामले की जांच कर रहे थाना डिवीजन नम्बर-2 के प्रभारी रविन्द्र ¨सह ने बताया कि पुलिस ने आरोपित को आज कोर्ट में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया है। इसका दूसरा साथी मुनीश कुमार दिल्ली का रहने वाला है,जिसे काबू करने के लिये पुलिस द्वारा रेड की जा रही है परन्तु अभी तक वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा। उन्होंने कहा कि दूसरे आरोपित को भी जल्द ही काबू कर लिया जाएगा।

Posted By: Jagran