जागरण संवाददाता, पठानकोट : उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई किसानों की मौत के मामले में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसान संगठनों ने सोमवार को पठानकोट कैंट के पास रेलवे ट्रैक पर धरना देकर रोष प्रकट किया। रेलवे ट्रैक पर दिए गए धरने के चलते सुबह दस से शाम चार बजे तक आने-जाने वाली ट्रेनों को पीछे ही रोक दिया गया। धरने के कारण जिले में एक दर्जन ट्रेनें प्रभावित हुई। किसानों ने केंद्र सरकार, प्रधानमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शनकारी केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को मंत्रीमंडल से बर्खास्त करने की मांग कर रहे थे।

सोमवार को किसानों के रेल रोको आंदोलन के कारण सोमवार को रेल यतायात बुरी तरह से बाधित रहा। सुबह धरना शुरू हुआ तो किसानों ने फिरोजपुर रेलवे मंडल के चार सेक्शन ब्लाक कर दिए। जालंधर, लुधियाना, अमृतसर आदि बड़े शहरों सहित कई स्थानों पर किसानों ने रेलवे ट्रैक बाधित कर दिया। इस बीच कई ट्रेनों को रेलवे स्टेशनों पर ही रोका गया। जालंधर में आम्रपाली एक्सप्रेस को सिटी रेलवे स्टेशन पर रोका गया है। अमृतसर-दादर एक्सप्रेस करतारपुर रेलवे स्टेशन पर खड़ी रही। अन्य कई ट्रेनों को भी ब्लाक किया गया। बता दें कि किसानों के विरोध प्रदर्शन के कारण रेलवे ने अलर्ट जारी कर दिया है ताकि किसी प्रकार की भी रेल संपत्ति को नुकसान न हो।

---------

यह ट्रेने रहीं रद

-अमृतसर से पठानकोट रावी एक्सप्रेस।

-पठानकोट से अमृतसर रावी एक्सप्रेस

--------------

यह हुई लेट

- अप

हिमगिरि एक्सप्रेस।

वंदे भारत।

स्वराज सुपर फास्ट।

मालवा सुपरफास्ट - डाउन

वेरावल एक्सप्रेस।

मालवा सुपरफास्ट।

स्वराज सुपरफास्ट।

मूरी एक्सप्रेस

----------------------------

रेल यात्री दिनभर होते रहे परेशान

किसानों के रेल रोको आंदोलन के कारण सोमवार को दिनभर रेल यात्री परेशान होते रहे। सबसे ज्यादा परेशानी बुजुर्गो, महिलाओं, बच्चों व बीमार लोगों को हुई। वे रेल आने का इंतजार करते रहे। दिनभर यात्रियों का स्टेशन पर आना जाना लगा रहा। कैंट रेलवे स्टेशन के समीप प्रदर्शनकारी धरना दे रहे थे। वहीं अमृतसर-जालंधर रूट भी बाधित रहा। इस ट्रैक पर सुबह 9:50 के बाद कोई भी ट्रेन नहीं आई। जम्मू से अहमदाबाद जाने वाली ट्रेन को सिटी रेलवे स्टेशन पर रोक दिया गया। वहीं इसके ट्रेन न आने के कारण हिमाचल रूट भी प्रभावित हुआ। केवल 11 बजे संबलपुर जाने वाली ट्रेन भी भेजी गई। किसानों के धरने के कारण शाम चार बजे तक अमृतसर, जालंधर और जम्मू से ट्रेनें नहीं आई। यात्री दिनभर परेशानी का सामना करते रहे। केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा का इस्तीफा लिया जाए: किसान नेता

भारतीय किसान यूनियन के किसान नेता जसवंत सिंह ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर यह प्रदर्शन किया जा रहा है। उनकी एक ही मांग है कि उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई किसानों की मौत के मामले में निष्पक्ष तरीके से जांच हो। केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को मंत्रीमंडल से बर्खास्त किया जाए। उसके लड़के को जेल में वीआइपी सुविधा दी जा रही है, उसे आम कैदियों की तरह उसे रखा जाए। यह तभी संभव है जब अजय मिश्रा का इस्तीफा लिया जाए। दुर्भाग्य की बात यह है कि इतना कुछ होने के बाद भी सरकार चुप है। इस मौके पर कर्मजीत सिंह, मंगत सिंह, केवल कालिया, केवल कंग, जसवीर सिंह, अमरीक सिंह, मक्खन सिंह सहित अन्य किसान नेता मौजूद थे। -------------

Edited By: Jagran