राज चौधरी,पठानकोट : शिक्षा विभाग की ओर से सरकारी स्कूलों का स्तर ऊंचा उठाने के लिए शुरू योजना वर्डस (श्ब्द) ऑफ द डे की सोमवार उस समय हवा निकल गई जब शिक्षा सचिव पंजाब कृष्ण कुमार ने पठानकोट के करीब छह स्कूलों का दौरा किया। सचिव ने विद्यार्थियों से उरी, आरसी, खारी, परागा तथा अंग्रेजी के पर्सन, पौटपुरी शब्द जैसे ही पूछे गए। बच्चों की ओर से इसका संतोषजनक जवाब न देने के बाद शिक्षा सचिव ने संबंधित प्रिसिपलों की क्लास लगाते हुए शार्ट नोटिस पर जिला स्तर के प्रिसिपलों की बैठक बुला ली। ये बैठक दोपहर दो से सायं पांच बजे तक चली। सरकारी स्कूलों के मुखियों, हेड्स तथा प्रिसिपलों को सख्त हिदायतें देते हुए कृष्ण कुमार ने विभागीय स्तर पर जारी इन आदेशों की हर हाल में पालन कराए जाने की बात कही। स्कूल मुखियों को चेताया गया कि प्रिसिपल केवल हस्ताक्षरों तक सीमित न रहें। उनकी ओर से शिक्षा स्तर पर काम में सुधार और शिक्षा गुणवत्ता को लेकर मंथन लगातार किया जाए। अध्यापकों को अपनी ड्यूटी में ईमानदारी व अनुशासन का पाठ भी पढ़ाया गया।

मालूम हो कि शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षा विभाग की ओर से सरकारी स्कूलों में 26 जुलाई को वर्डस ऑफ द डे की शुरूआत की गई थी। इसके तहत शिक्षा विभाग की ओर से बनाए गए वट्सएप ग्रुप में प्रिसिपलों, हेडस तथा अन्य अधिकारियों को प्रतिदिन एक-एक अंग्रेजी तथा पंजाबी भाषा का शब्द भेजा जाता है। इन शब्दों के उच्चारण तथा इनके वास्तविक मतलब संबंधी विद्यार्थियों को विस्तारपूर्वक जानकारी दिए जाने के निर्देश हैं। मगर आज जब बच्चे इन शब्दों का जवाब नहीं दे पाए तो शिक्षा सचिव ने तलखी खाते हुए इस बैठक को किए जाने के निर्देश जारी किए। साथ ही पहले से भेजे गए शब्दों को पुन: पांच-पांच अक्षर भेजे गए तथा कहा कि आगामी दिनों में पहले बच्चों को इसका ज्ञान पूरी तरह से करवाया जाए। इसके बाद ही नए शब्द उन्हें भेजे जाएंगे।

सही ढंग से करें काम, अन्यथा सस्पेंड होने के लिए तैयार रहें

शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार ने कुछेक अध्यापकों को आगामी चेतावनी देते हुए कहा कि उनकी ड्यूटी बच्चों को पढ़ाने तथा अपना कार्य ईमानदारी से करने का है। अतएव यदि वह इसे इमानदारी से निभाने में अक्षम सिद्ध हुए तो उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। इसके लिए उनकी ओर से कुछेक अध्यापकों को प्रत्यक्ष रूप से चेताया भी गया तथा कहा कि उन्हें जिले भर के स्कूलों की पल-पल की रिपोर्ट मिल रही है।

अनसेफ हो चुके सात कमरों के निर्माण की मांग रखी, सचिव ने दिया आश्वासन

सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल दुनेरा के प्रिसिपल विनय मोहन ने बैठक खत्म होने के बाद शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार के समक्ष उनके स्कूल के सात अनसेफ कमरों के जल्द निर्माण की मांग उठाई। विनय मोहन ने कहा कि इस संबंधी पहले ही केस तैयार कर भेजा चुका है, मगर अभी तक इसके लिए फंड जारी नहीं हुआ। सचिव ने कहा कि इस संबंधी विस्तार पूर्वक रिपोर्ट डीईओ एलिमेंट्री संजीव गौतम को बताई जाए। वह डिटेल तैयार कर उन्हें भेजे। जल्द ही इस समस्या का समाधान कर दिया जाएगा।

सम्मान कार्यक्रम हुआ रद शिक्षा विभाग की ओर से पठानकोट स्थित वालिया रिसोर्ट में साल 2018-19 में 100 प्रतिशत नतीजे देने वाले सरकारी स्कूलों के 1042 अध्यापकों को प्रशंसा पत्र दिए जाने का कार्यक्रम रखा गया था पर बाद में भारत सरकार की ओर से अरूण जेतली के निधन के बाद सोमवार को राजकीय शोक के कारण इसे रद कर दिया गया। अब ये कार्यक्रम आगामी माह आयोजित होने की संभावना है।

कोट्स

शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार की ओर से शिक्षा स्तर को ऊंचा उठाने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं। उनकी हर हाल में जिला भर के स्कूलों में लागू करवाया जाएगा।

संजीव गौतम, डीईओ एलिमेंट्री

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!