जागरण संवाददाता, पठानकोट: टांडा रेलवे स्टेशन के पास किसानों द्वारा किए गए चक्का जाम की वजह से शुक्रवार को छठे दिन भी जालंधर-जम्मूतवी के बीच रेल सेवा पूरी तरह से ठप रही। वंदे भारत सहित देश के विभिन्न राज्यों से पठानकोट के रास्ते जम्मूतवी-उधमपुर व कटरा जाने वाली सभी 36 ट्रेनों को रेलवे ने रद कर दिया। ट्रेनें रद होने के कारण पठानकोट व साथ लगते एरिया से दिल्ली जाने व अन्य राज्यों को जाने वाले यात्रियों के लिए भारी दिक्कतें पैदा हो गई है। रेलवे को रोजाना करोड़ों रुपये का आर्थिक तौर पर नुकसान हो रहा है। अपने सगे संबंधियों व अन्य कार्यो को जाने वाले यात्रियों को अपना कार्यक्रम रद करना पड़ रहा है या फिर बसों के जरिये दिल्ली व लुधियाना पहुंचना पड़ रहा है। सर्दी के इस मौसम में लोगों के लिए भारी दिक्कतें पैदा हो गई है। किसान भी अपनी मांगों को लागू करवाने तक ट्रैक से न उठने की जिद पर अड़े हुए हैं।

किसान आंदोलन के चलते रेल सेक्शन बाधित होने के कारण शुक्रवार को छठे दिन पठानकोट कैंट रेलवे स्टेशन पर 55 तथा सिटी स्टेशन पर 30 यात्रियों के पूरे पैसे लौटाए गए। कैंट स्टेशन पर 47 हजार तथा सिटी स्टेशन पर 32 हजार रुपये लौटाए गए। यात्रियों ने रोया दुखड़ा.. टिकट रद कराने के अलावा कोई विकल्प नहीं

पठानकोट से दिल्ली जाने वाले देस राज, राजिद्र कुमार, रिटायर्ड इंजीनियर सोम राज आदि ने बताया कि उन्हें किसी जरूरी कार्य के लिए चेन्नई, गाजियाबाद व कोलकाता जाना था। उन्होंने कहा कि एक तो पहले वेटिग की वजह से उन्हें अपना कार्यक्रम कच्चा-पक्का लग रहा था। सीट मिली तो किसानों ने आंदोलन शुरू कर दिया। ऐसे में उनके पास अपनी टिकट रद करवाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। कारण दिल्ली तक तो यात्री बसों में सफर कर लेते हैं, लेकिन कोलकाता तक बसों में सफर करना मुश्किल है। अमृतसर से कटरा के लिए चलाई विशेष ट्रेन

रेलवे ने शुक्रवार को भी अमृतसर से कटरा के लिए विशेष ट्रेन माता वैष्णो देवी के दर्शन को जाने वाले यात्रियों को राहत पहुंचाई। ट्रेन कटड़ा से उधमपुर, जम्मूतवी, कठुआ, पठानकोट, गुरदासपुर, बटाला स्टेशनों के यात्रियों को बेहतर सुविधा प्रदान कर रही है।

Edited By: Jagran