संवाद सहयोगी पठानकोट : बाबा साहेब डॉ. भीम राव आंबेडकर मिशन जिला पठानकोट के कार्यकर्ताओं ने गांव मलिकपुर में स्थानीय लोगों के सहयोग से कांशीराम का 14वां परिनिर्वाण दिवस मनाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर प्रिंसिपल गुरदीप चंद विशेष तौर पर शामिल हुए। प्रवक्ताओं ने कहा कि साहिब कांशी राम ने बाबा साहेब के अधूरे सपने को पूरा करने की जिम्मेदारी अपने कंधों पर लेकर शोषित पीड़ित वर्ग को आत्मसम्मान का पाठ पढ़ाया। उनकी जन्मस्थली पंजाब का रोपड़ जिला, कर्मस्थली महाराष्ट्र-पूना और उत्तर प्रदेश को अपनी राजनीतिक प्रयोगशाला बनाकर साहिब कांशी राम ने सामाजिक परिवर्तन का मार्ग प्रशस्त किया है। उन्होंने दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों के मानवीय अधिकारों के लिए संघर्ष किया और नौ अक्टूबर 2006 को स्वर्ग सिधार गए थे। इस अवसर पर तरसेम चंद, वरिदरपाल सिंह, मनोहर लाल, शिव दयाल, शीतल चंद, लक्ष्मण सिंह, गुरदयाल सिंह, तेजराम, गुरदयाल सिंह, रणजीत सिंह, सरपंच जगन नाथ, देसराज, करतार चंद, धर्मपाल भगत, जोगिदर पाल, तारा चंद, भंडारी राम, बूटा राम, रत्न चंद, बलदेव राज, सुनील कुमार, हंसराज, सुभाष चंद्र, सुरेश कुमार, पृथ्वी राज आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!