संवाद सहयोगी, पठानकोट : 50 करोड़ रुपये की टर्न ओवर वाले द हिदू कोऑपरेटिव बैंक के 13 मुलाजिमों को विभाग की ओर से चार्जशीट देकर इन्हें 15 दिन के भीतर अपना जबाव देने को कहा है। इन मुलाजिमों को दशहरा पर्व से पहले विभागीय स्तर पर दबिश देकर ड्यटी पर हाजिर न पाए जाने के बाद सस्पेंड किया गया था। हालांकि विभागीय अधिकारियों ने इन्हें चार्जशीट पर भेजने की कोई पुष्टि नहीं दी है।

एक सस्पेंड किए गए मुलाजिम को गत 25 अक्टूबर को चार्जशीट दी गई थी, जिसे बहाल कर दिया गया है। शेष 13 बैंक कर्मचारियों को शुक्रवार को चार्जशीट दी गई है तथा इन्हें जबाव देने को कहा गया है। चार्जशीट के नीचे सीइओ अमन मेहता के हस्ताक्षर किए गए हैं। चार्जशीट मिलने के बाद कर्मचारियों की ओर से अपना बचाव करने के लिए राजनेताओं तथा कोऑपरेटिव बैंक के उच्चाधिकारियों के शरण में जाना शुरू कर दिया गया है।

उधर, इस संबंध में हिदू कोआपरेटिव बैंक के ज्वाइंट रजिस्ट्रार पीके बल ने कहा कि वह चंडीगढ़ में किसी मीटिग में है। चार्जशीट दिए जाने संबंधी उन्हें कोई सूचना नहीं है।

गौरतलब है कि गत 25 मार्च को आरबीआइ की ओर से जांच के बाद द हिदू कोआपरेटिव बैंक से लेनदेन पर रोक लगा दी गई थी। जिसके बाद से खाता धारक एक साल में मात्र 10 हजार रुपये ही अपने खाते में निकाल सकते हैं। आरबीआइ के एक फैसले के बाद क्षेत्र के 90 हजार से अधिक खाता धारकों तथा 15 हजार शेयर होल्डरों पर इसका गहरा प्रभाव पड़ा है तथा अपनी जमा पूंजी के डूबती नजर आने लगी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!