जासं, नवांशहर : नौसरबाजों से बैंक के डेबिट कार्ड का क्लोन कार्ड बनाकर खाते से सारे रुपये निकला लिए। जब खाता धारक अपने अकाउंट से रुपये निकलवाने गया को खाता खाली था। खाते से रुपये उड़ाने वाले इतने शातिर हैं कि खाताधारक अपने गांव में था और उन्होंने दिल्ली के एटीएम से रुपये निकाल लिए। घटना की शिकायत पुलिस से की गई तो अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। नौसरबाजों ने तलवंडी फत्तू निवासी कुलदीप राम के खाते से ये रुपये उड़ाये हैं। रुपये निकलने की सूचना कुलदीप को ढाई महीने बाद पता चली है। जालसाजों ने उसके खाते से दो दिन में 55 हजार रुपये निकाल लिए। पहले दिन 40 हजार और दूसरे दिन 15 हजार रुपए निकाले गए। कुलदीप राम ने बताया कि वह लेबर का काम करता है। वह पहले दोहा में काम करता था। छह महीने से वह गांव में ही रहा था। उसके अकाउंड में 55 हजार से अधिक रुपए थे। दो दिन पहले जब वह घर का कुछ सामान खरीदने के लिए रुपये निकलवाने एटीएम गया तो रुपये नहीं निकले। चेक किया तो पता चला कि उसके खाते में केवल 347 रुपये हैं। इससे वह हैरान हो गया क्योंकि उसने अपने खाते से रुपये निकलवाए नहीं थे। वह कैनरा बैंक की अपनी ब्रांच में पहुंचा और खाते में रुपयों के बारे में जानकारी ली तो बैंक कर्मियों ने बताया कि उसने दिल्ली में जाकर रुपये निकाले हैं।

दिल्ली न कभी गया न उसका कोई वहां रिश्तेदार

बैंक अधिकारियों ने चेक करके बताया कि 28 अप्रैल व 29 अप्रैल 2019 को उसके खाते से 55 हजार रुपये निकाले गए है। रुपए तो डेबिट कार्ड से ही निकाले गए हैं। कुलदीप ने उन्हें बताया कि वह तो दिल्ली गया ही नहीं था और न ही कोई उसका रिश्तेदार दिल्ली में रहता है। डेबिट कार्ड उसके पास ही रहता है। इसके बाद बैंक अधिकारियों ने बताया कि उसके एटीएम कार्ड को स्कैन कर क्लोन डेबिट कार्ड बना लिया गया है। इसी के आधार पर एटीएम से रुपए निकाले गए हैं। कुलदीप ने बताया कि अप्रैल में उसने बंगा एक एटीएम से पांच हजार रुपए निकाले थे। बैंक अधिकारियों ने कहा हो सकता है कि उक्त एटीएम मशीने में डेबिट कार्ड स्कैन करने के लिए किसी ने यंत्र लगा दिया हो और उसकी जरिए एटीएम कार्ड बना लिया हो।

रुपये निकलने पर मैसेज आया लेकिन समझ नहीं पाया

कुलदीप ने बताया कि उसके बैंक में उसका फोन नंबर ही चलता है। जिस समय रुपये निकले थे उस समय उसके पास मैसेज तो आए थे, लेकिन वह नहीं समझ पाया कि उसके खाते से रुपए निकले हैं। उसने बताया कि जब उसने किसी को डेबिट कार्ड दिया ही नहीं था तो रुपए कैसे निकल सकते हैं। यह सोच कर उसने इसकी पड़ताल नहीं की थी। इसके बारे में पुलिस अधिकारियों से शिकायत की है। थाना मुकंदपुर की पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ ममला दर्ज कर जांच शुरु क र दी है।

रुपये निकालने वाले की पहचान में जुटे बैंक अधिकारी

कुलदीप ने बताया कि एफआइआर की कॉपी उसने केनरा बैंक के अधिकारियों को दे दी है। उन्होंने कहा कि वह उस समय की फुटेज निकला कर देखेंगे कि उस समय कौन सा व्यक्ति एटीएम से रुपये निकाल रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!