संवाद सहयोगी, नवांशहर: वीरवार को पंजाब स्टूडेंट्स यूनियन की तरफ से अपनी मांगों को लेकर सहायक कमिश्नर अनिल गुप्ता को एक मांग पत्र सौंपा गया। इससे पहले युवाओं को संबोधित करते हुए पंजाब स्टूडेंट्स यूनियन के दोआबा जोन के प्रधान बलजीत धर्मकोट, राजू बरनाला व किरनजीत कौर ने कहा कि पंजाब की समूह शैक्षणिक संस्थाओं सहित आइटीआइ को जल्द ही विद्यार्थियों के लिए खोल दिया जाए, पोस्ट मैट्रिक स्कालरशिप स्कीम में आर्थिक तौर पर कमजोर जनरल वर्ग के विद्यार्थियों को शामिल करके इस स्कीम को पूर्ण तौर पर लागू किया जाए, ऐतिहासिक इमारतों की संभाल की जाए और सुंदरीकरण के नाम पर जलियांवाला बाग के साथ की गई छेड़छाड़ को बदलकर पुराने स्वरुप को तुरंत बहाल किया जाए, पीएचडी करने तक लड़कियों की पूरी फीस माफ की जाए, पीटीए फंड न लिया जाए और शैक्षणिक संस्थानों में अध्यापकों की पक्की भर्ती करके सरकारी खजाने से वेतन दिया जाए और पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला की फीसों में किए गए विस्तार को वापस लिया जाए। यूनियन के नेताओं ने कहा कि कैप्टन सरकार को विद्यार्थियों व नौजवानों की मांगों को गंभीरता से लेना चाहिए। विद्यार्थियों की समस्याओं को पहल के आधार पर हल किया जाना चाहिए। उन्होंने पंजाब सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उपरोक्त मांगों को तुरंत हल नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में विद्यार्थी संघर्ष को और तेज करेंगे। इस मौके पर यूनियन के उपप्रधान कमलदीप मलूपोता, रोहित चौहान, रहमान, ममता, निशा, राजविदर कौर, मनीषा, अमृता, जसप्रीत कौर, गुरनाम सिंह, आकाशदीप सिंह, रजिदर सिंह, मनप्रीत सिंह राहुल, अमरिदर सिंह, जसकरनवीर सिंह, मुकेश कुमार आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran