मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, नवांशहर : दो जालसाजों ने बेरोजगार युवक को एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया (एएआइ) में सुपरवाइजर की नौकरी दिलाने का झांसा देकर 76 हजार रुपये ठग लिए। ये ठग इतने शातिर हैं कि ये और रुपये ऐंठना चाहते थे, लेकिन युवक को शक हो गया तो उसने आगे रुपये नहीं भेजे। ये ठग इतने शातिर हैं कि इन्होंने युवक को नौकरी विश्वास दिलाने के लिए बकायदा एएआइ के लेटर हैड पर अप्वाइंटमेंट लेटर भी भेजा, जिसके कारण युवक इनके जाल में फंस गया। बलविदर के पिता जतिदरपाल सिंह ने कहा कि उनके बेटे को नौकरी का झांसा देकर ठगी की गई है और आरोपित के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। ठगी के शिकार चंदियानी खुर्द निवासी बलविदर पाल सिंह ने बताया कि उन्होंने एक विज्ञापन देखा था, जिसमें कहा गया था कि एयरपोर्ट पर ग्राउंड स्टाफ की जरूरत है। इसके लिए विभिन्न पदों पर युवाओं की जरूरत है। उन्होंने विज्ञापन को पढ़कर दिए गए नंबरों पर फोन किया। वह दिल्ली के मदनपुरी सागर पुर निवासी भारती कुमारी का नंबर था। भारती ने ईमेल के जरिए बलविदर से उसका बायोडाटा व आवेदन मंगवाया और कहा कि कागजी कार्रवाई के लिए वह 15 हजार रुपये तुरंत भेज दे। उसने अपना पंजाब नेशनल बैंक का अकाउंट नंबर भेजा। बलविदर ने पूछा कि ये रुपये कहीं कंसल्टेंसी फीस तो नहीं ली जा रही है। भारती ने कहा इसके लिए कोई कंसल्टेंसी फीस नहीं है। रुपये जमा होकर औपचारिकताएं पूरी कर उसे अप्वाइंटमेंट लेटर जारी कर दिया जाएगा। बलविदर ने अपने पिता से 15 हजार रुपये लेकर भारती द्वारा बताए गए बैंक अकाउंट में आनलाइन ट्रांसफर कर दिए। चंडीगढ़ एयरपोर्ट कही थी तैनाती की बात

भारती ने 15 हजार रुपये रिसीव करने के बाद एएआइ के लेटर हेड पर अप्वाइंटमेंट लेटर मेल से भेज दिया। उसने कहा कि उसकी नौकरी लग गई है। उसे चंडीगढ़ के एयरपोर्ट में तैनात किया जाएगा। लेटर हैड पर आए अप्वाइंटमेंट लेटर से बलविदर को यकीन हो गया कि उसकी नौकरी लग गई है। वह भारती की बातों पर विश्वास करने लगा। उसने दफ्तरी कार्यवाही के नाम पर 24,500 रुपयों की मांग की। इसे भी उसने ऑनलाइन बैंक में ट्रांसफर करवाया। रुपये आने के बाद भारती ने फोन कर बताया कि अब उसके सीनियर रविदर ठाकुर आगे कब और कैसे ज्वाइंन करना है गाइड करेंगे। इसके बाद रविदर ठाकुर ने भारती के अकाउंट में 35,500 रुपये और मंगवा लिए। इसके बारे में उसने कहा कि ये रुपये इंश्योरेंस के हैं।

इंश्योरेंस के नाम पर मांगे 35 हजार रुपये

एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया में काम करने वाले लोगों की इंश्योरेंस भी करवानी होती है। बलविदर फिर उसके झांसे में आ गया। रुपये जमा होने के दो तीन दिन बाद फिर रविदर ठाकुर ने फोन कर 35 हजार रुपये जमा करवाने के लिए कहा। इस पर बलविदर को शक हुआ तो उसने पूछा कि आप लोग केवल रुपये मंगवा रहे हैं ज्वाइन कब करनी है ये बात ही नहीं कर रहे। रविदर ने कहा कि असल में उसके साथी छुट्टी पर हैं इसलिए उसके इंश्योरेंस वाले रुपये जमा नहीं हो सके हैं। वह रुपये तुरंत भेज दे। बलविदर ने कहा कि कहीं आप लोग मेरे साथ ठगी तो नहीं कर रहे हैं। इस पर रविदर ठाकुर हंसने लगा और फोन काट दिया। इसके बाद वह जब भी फोन मिलाता वे लोग उसका फोन नहीं उठाते थे।

दूसरी जगह फोन करने पर भी मांगे पैसे

बलविंदर को शक होने के बाद उसका ध्यान उसी तरह के एक और विज्ञापन पर गया। उसने वहां फोन नौकरी लगवाने के लिए कहा तो उस नंबर पर बात करने वाले लोगों ने भी भारती की तरह ही पहले रुपये मांगे। बलविदर ने कहा, इसके बाद साफ हो गया था कि मेरे साथ भारती व उसके साथी रविदर ठाकुर ने ठगी की है। इसकी शिकायत पुलिस से की गई। मामले की जांच के बाद पुलिस ने भारती कुमारी व रविदर ठाकुर के खिलाफ धोखाधड़ी व साजिश करने का मामला दर्ज कर लिया है। अभी तक इस मामले में किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!