संवाद सूत्र, नवांशहर

नवांशहर के न्यू प्रेम नगर निवासी जनक रानी की मरणोपरांत दान दी गई आंखें दो अंधेरी ¨जदगियों को रोशन करेंगी।

इस संबंधी में जानकारी देते हुए नेत्रदान संस्था नवांशहर के महासचिव रतन कुमार जैन ने बताया कि जनक रानी धर्मपत्नी सुखपाल निवासी न्यू प्रेम नगर नवांशहर की संक्षिप्त बीमारी के बाद मौत हो गई थी। जिसके बाद मृतका के पारिवारिक नजदीकी गोपाल मोहन जांगड़ा ने मृतका के पुत्रों जसवीर कुमार एवं अशोक कुमार से मृतका के मरणोपरांत नेत्रदान करवाने की प्ररेणा दी, ताकि इन नेत्रों से दो जरूरतमंद व्यक्तियों के जीवन में रोशनी आ सके। पारिवारिक सहमति के बाद उन्होंने नेत्रदान संस्था के महासचिव रतन कुमार जैन के साथ संर्पक किया। इसके बाद संस्था के प्रधान डॉ. जेडी वर्मा की अगुवाई में नेत्रदान संस्था ने पारिवारिक सहमति के बाद जनक रानी के मरणोंपरांत नेत्र प्राप्त किए। इन नेत्रों को रोटरी आई बैंक होशियारपुर में भेज दिया गया है, जहां यह नेत्र दो जरूरतमंदों को एक-एक लगा दिए जाएंगे। मृतका जनक रानी 519वीं नेत्रदानी के रूप में प्राप्त हुए हैं। इस मौके पारिवारिक सदस्यो में जसवीर कुमार, अशोक कुमार (बेटे), पूनम, राजविन्द्र (बहुएं), अमन कुमारी, पवन कुमारी, प्रवीन कुमारी (बेटियां), गोपाल मोहन जांगड़ा, रुलीया राम, चंदन, वरुन, नक्श एवं नेत्रदान संस्था के सदस्यों में यशपाल ¨सह हाफिजाबादी, अशोक शर्मा, सुभाष अरोड़ा आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran