जागरण संवाददाता, नवांशहर:

पंजाब मेडिकल लेबोरेटरी टैक्नीशियन के आह्वान पर पहले तो जिले के समूह मेडिकल लेबोरेटरी टैक्नीशियनों की तरफ से काले बिल्ले लगा कर सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया गया। तथा दूसरे पड़ाव में टैक्नीशियनों द्वारा दो घंटे हड़ताल की गई। वहीं अब सोमवार से उनके द्वारा मुकम्मल रूप से काम काज को ठप्प कर दिया गया है। इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला प्रधान अमृतपाल सिंह ने बताया कि सरकार की तरफ से जो सरकारी लेबोरेटरी का निजीकरण करने का फैसला किया गया है। वह सरासर गलत है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस फैसले से आम लोगों की जेबों पर भारी बोझ पड़ेगा। जिसके कारण सरकार की इस फैसला का विरोध किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लंबे समय से सरकार की ओर से उनकी मांगों को लेकर टालमटोल की नीति अपनाई जाती रही है। उन्होंने कहा कि स्टेट बाडी के निर्देशानुसार दो से तीन अगस्त तक जिले की सभी सरकारी लेबोरेटरियां मुकम्मल रूप में बंद रहेंगी। इस दौरान वहां किसी भी प्रकार का काम नहीं किया जाएगा। लेकिन लोक हितों को ध्यान में रखते हुए कोविड 19 और इमरजेंसी सेवाओं को जारी रखा जाएगा। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो वे अपने संघंर्ष को और तेज कर देंगे। इस मौके पर कमलेश कुमार महासचिव, जसविदर सिंह कैशियर, रमेश लाल बंगा, सतपाल सिंह, चरणजीत, नीरज, संदीप, बलवीर, हरदीप कौर, अमनीश, अमरजीत, हरप्रीत कौर, कमल नयन, मितेश, कमलप्रीत कौर, परमजीत कौर, प्रदीप, राज कुमार मेडिकल लेबोरेट्री टैक्नीशियन आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran