सुशील पांडे, नवांशहर : पंजाब रोडवेज व पनबस में काम कर रहे कच्चे कर्मचारी मंगलवार से हड़ताल पर हैं। जहां पहले दो घंटे के लिए बस स्टैंड को ही बंद किया जाता था वहीं अब पक्के तौर पर यह लोग हड़ताल पर चले गए हैं। इससे बसें नहीं चलेंगी जिससे आम लोगों व ड्यूटी पर जाने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। वहीं रोडवेज प्रबंधन की ओर से पनबस कर्मियों के हड़ताल पर जाने के कारण अन्य विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। प्रबंधन की ओर से अन्य स्टाफ के प्रबंध किए जा रहे हैं ताकि बसें डिपो में खड़ी न होकर अपने रूटों पर दौड़ें। 43 रूट हुए होंगे प्रभावित

हड़ताल के कारण 43 रूट प्रभावित होंगे। रूटों के बंद होने के कारण यात्रियों को बेहद परेशानी का सामना करना पड़ेगा। सबसे ज्यादा परेशानी दैनिक यात्रियों, विद्यार्थियों और कारोबारियों को होगा, जिनका इन बसों से रोजाना दूसरे शहरों या जिलों को आना-जाना होता है। पनबस कर्मियों की यह हड़ताल कब तक चलेगी किसी को कुछ पता नहीं। रोडवेज के नवांशहर डिपो से रोजाना लुधियाना के लिए 15 रूट, जालंधर के लिए 10 रूट, होशियारपुर के लिए 10 रूट व फगवाड़ा के लिए 8 रूट चलते हैं। मांगें माने जाने तक जारी रहेगी हड़ताल

डिपो प्रधान हरदीप सिंह काहलों ने कहा कि प्रदेश यूनियन के आह्वान पर वो अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। जब तक प्रदेश सरकार उनको पक्का नहीं करती है तब तक उनकी हड़ताल जारी रहेगी। अगर लोगों को परेशानी होगी तो इसके लिए प्रदेश सरकार जिम्मेदार है। दस साल की नौकरी, साढ़े 12 हजार मिल रहा वेतन

यूनियन के नेताओं का कहना है कि दस-बारह साल की नौकरी बाद भी उन्हें साढ़े 12 हजार रुपये वेतन मिल रहा है। पहले यह 10 हजार रुपये था। सरकार की ओर से हाल ही में 25 फीसद वेतन में वृद्धि की गई है। इतने कम वेतन में गुजारा करना मुश्किल है। सरकार को जायज मांगों को मान लेना चाहिए, जिससे पंजाब की जनता तथा फ्री सफर करने वालों को और बढि़या सुविधा मिल सके। निजी बस आपरेटरों की होगी चांदी

हड़ताल के कारण निजी बस आपरेटरों की चांदी होगी। नवांशहर की तो यहां से हजारों यात्री जालंधर, लुधियाना, अमृतसर चंड़ीगढ़ और होशियारपुर सहित विभिन्न जिलों के लिए सफर करते हैं। लेकिन सरकारी बसों की हड़ताल के वजह से लोग निजी बसों में सफर करेंगे।

-------

प्रबंधन की ओर से यह प्रबंध किया जा रहा है कि हड़ताल के कारण आम जनता को किसी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़ा। इसके लिए स्टाफ का इंतजाम किया जा रहा है।

-जसवीर सिह, जनरल मैनेजर, पंजाब रोडवेज नवांशहर।

Edited By: Jagran