जागरण संवाददाता, नवांशहर

जिले में कोरोना संक्रमण फिर बढ़ने लगा है। सरकार की ओर से बेशक लाकडाउन लगाया गया है। मगर, लोगों द्वारा इसकी अवहेलना करने के कारण मई माह में पहली बार बुधवार को संक्रमित मरीजों का आंकड़ा सौ को पार गया है। बुधवार को 125 लोग पाजिटिव पाए गए हैं और तीन लोगों की कोरोना के कारण मौत हुई है।

लाकडाउन के कारण भले ही गैर जरूरी वस्तुओं की दुकानें बंद है। फिर भी बाजारों में लोगों को बड़ी संख्या में देखा जा सकता है। हालांकि भीड़ लाकडाउन लगने से पहले की अपेक्षा कम है। वहीं पुलिस की ओर से भी अब बिना किसी कारण के घूमने वाले लोगों से सख्ती से पूछताछ नहीं की जा रही है।

उधर, शहर में बैंकों के आगे सुबह दस बजे से ही बैंक ग्राहकों की भीड़ लगनी शुरू हो जाती है। इस दौरान बैंक में आने वाले लोग शारीरिक दूरी की सरेआम धज्जियां उड़ाते देखे जा सकते हैं। ए लोग सरेआम ही नियमों की धज्जियां उड़ा रहा हैं पर जिस तरह के इंतजाम पिछले वर्ष किए गए थे वैसे दिखाई नही दे रहे हैं। ऐसा ही नजारा बुधवार को पंजाब नेशनल बैंक के बाहर देखने को मिला।

उधर, कोरोना से ब्लाक बलाचौर की 58 वर्षीय महिला की मौत पटियाला के सरकारी अस्पताल में व 53 वर्षीय महिला की मौत पीजीआइ चंडीगढ़ में हुई। इसके अतिरिक्त नवांशहर की 72 वर्षीय महिला की मौत पटियाला में हुई।

सिविल सर्जन डा.जीके कपूर ने बताया कि अभी तक जिले में सक्रिय केसों की संख्या 9154 हो चुकी है, इनमें से 8271 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं अभी तक 249 लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है। सेहत विभाग की ओर से अभी तक 1,94,913 लोगों के सैंपल लिए जा चुके हैं। जिले में सक्रिय केसों की संख्या 596 है।

बुधवार को ब्लाक नवांशहर से 18, राहों से 7, बंगा से 8, सुज्जों से 11, मुज्जफरपुर से 21, मुकंदपुर से 7, बलाचौर से 36 व सड़ोया से 17 केस पाजिटिव आए हैं।