संवाद सूत्र, बलाचौर:

पिछले कुछ महीनों से एसडीएम दफ्तर व तहसील दफ्तर में चल रही कर्मचारियों की हड़ताल से आम लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन लगता है लोगों को होने वाली परेशानियों से सरकार को कोई फर्क नहीं पर रहा है। तभी तो अभी तक इस समस्या का कोई हल सरकार द्वारा नहीं निकाला गया है।

सोमवार को एसडीएम दफ्तर में काम करवाने आए सुरेश कुमार, राजीव कुमार व गजेंद्र सिंह ने बताया कि वह अपना कोई जरूरी काम करवाने के लिए पिछले कुछ दिनों से एसडीएम दफ्तर के चक्कर काट रहे हैं। लेकिन कर्मचारियों के हड़ताल पर होने के कारण उनका काम नहीं हो पा रहा है। जिसके कारण उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार को जल्द से जल्द इन कर्मचारियों की मांगों पर ध्यान देना चाहिए जिससे इन दफ्तरों में अपना काम करवाने के लिए आने वाले लोगों को राहत मिल सके।

इस संबंध में हड़ताल कर रहे तहसील प्रधान अमित कुमार, बलदेव सिंह, जसविदर सिंह, स्टेनो सुखविदर सिंह सुंडा, नीरज सोनी, विकास राणा, विजय कुमार, मनजिदर सिंह, धीरज कुमार, सुखविदर सिंह, लवलेश कुमार, गुरजंट सिंह, सुखविदर सिंह सेखों, तेजवीर सिंह, लखबीर सिंह, गगनदीप कौर, कुलदीप सिंह, कमलजीत सिंह, राकेश कुमार तोमर, सुरेंद्र सिंह, मक्खन सिंह ने बताया कि पिछले काफी समय से कर्मचारियों द्वारा छठे वेतन आयोग की सिफारिशों के खिलाफ हड़ताल की जा रही है। लेकिन सरकार ने अभी तक इस समस्या का कोई हल नहीं तलाशा है जिसके कारण हड़ताल को लगातार जारी रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि सरकार ने कुछ पोस्टों को खत्म कर दिया है। जिसका सीधा असर मुलाजिम वर्ग पर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं करती तब तक वे हड़ताल को जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि इस दौरान न कोई रजिस्ट्री होगी न ही कोई और काम होगा।

Edited By: Jagran