सुशील पांडे,नवांशहर:

सरकारी आदेशों के बाद कोरोना की तीसरी लहर के बीच प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों को खोल दिए गए है। सोमवार को स्कूलों में सिर्फ 50 प्रतिशत बच्चों ने उपस्थिती दर्ज कराई। पंजाब सरकार की ओर 26 जुलाई को पहले फेज में 10वीं,11वीं और 12वीं के क्लासों को शुरू किया गया था। इस दौरान सभी स्कूलों को मास्क व सामाजिक दूरी का विशेष ध्यान रखने के लिए कहा गया है। सरकार के निर्देशों के अनुसार एक बैंच पर एक ही विद्यार्थी को बैठाने को कहा गया है। दूसरी तरफ नीजि स्कूलों ने इस संबंध में अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है। वे अभिभावकों से मीटिग कर बच्चों को स्कूल भेजने के सहमति पत्र का इंतजार कर रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार नीजि स्कूलों को 10 अगस्त तक बच्चों के लिए खोलने की तैयारी की जा रही है। वहीं कई निजी स्कूल ऐसे हैं जिनके सभी अध्यापकों की वैक्सीनेशन नही हो पाई है या उन्होंने अभी तक वैक्सीन की दूसरी डोज नहीं ली है। इस बीच सभी बच्चों के लिए स्कूलों को खोलने के सरकारी आदेश से बच्चों के अभिभावक दुविधा में फंस गए है। एक तरफ उन्हें कोरोना की संभावित तीसरी लहर का डर सता रहा है तो दूसरी तरफ बच्चों को स्कूल न भेजने पर उनकी पढ़ाई पर होने वाले नकारात्मक प्रभाव की चिंता सता रही है।

बाक्स के लिए-

पंजाब स्कूल एजुकेशन बोर्ड से संबंधित लगभग सभी 40 निजी स्कूल सोमवार को खुले पर इन स्कूलों में केवल 10वीं,11वीं व 12वीं के बच्चों को ही बुलाया गया। आज से आठवीं व नौंवी कक्षा के विद्यार्थियों को भी बुलाया जाएगा। प्राइमरी कक्षाओं के विद्यार्थियों को 15 दिनों के बाद बुलाया जाएगा।

बाक्स के लिए-

जिले में हैं 82 हजार विद्यार्थी

जिले में इस समय करीब 82 हजार स्कूली विद्यार्थी हैं। सरकार ने कहा है कि स्कूल स्टाफ का 100 फीसदी वैक्सीनेशन होना अनिवार्य है। जिले के करीब 90 प्रतिशत अध्यापकों का टीकाकरण किया जा चुका है। जिले के कुल 634 सरकारी स्कूलों में लगभग 1800 स्टाफ कार्यरत है। वहीं करीब 155 प्राइवेट स्कूलों में लगभग 1700 स्टाफ काम कर रहे है। जिले के 423 सरकारी प्राइमरी स्कूलों में विद्यार्थी की संख्या 32 हजार 237 है। जिले के कुल 211 मिडिल, हाई व सीसे स्कूलों में करीब 33 हजार विद्यार्थी हैं। सरकारी स्कूलों में लगभग 65 हजार विद्यार्थी हैं।

बाक्स के लिए

बच्चों को इन सावधानियों का करना होगा पालन

1.स्कूलों में विद्यार्थियों को मास्क पहनकर रखना अनिवार्य किया गया है।

2.विद्यार्थियों को झुंड बनाकर खड़े होने की मनाही रहेगी।

3.सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना होगा।

4.एक दूसरे के साथ टिफिन शेयर नहीं कर सकते है।

जिला शिक्षा अफसर जगजीत सिंह का कहना है कि स्कूलों में कोरोना वायरस का संक्रमण न फैले, इसके लिए सैनिटाइजेशन सहित सामाजिक दूरी बरकरार रखने के लिए पूरे प्रबंध किए गए हैं। अगर बच्चों की संख्या बढ़ती है तो शिफ्ट वाइज पढ़ाई के साथ क्लास वाइज भी प्रबंध किए जाएंगे। पहले दिन अगर बच्चे आते हैं तो फिर मिड डे मील भी बनाया जाएगा। बच्चे की तबीयत खराब होने पर उसे तत्काल अस्पताल ले जाने के साथ ही अभिभावक को सूचना देना जरूरी होगा। उन्होंने कहा कि जो बच्चे स्कूल नही जाना चाहते हैं। उनको आनलाइन पढ़ाई करवाई जाएगी। बिना मास्क स्कूल आने वाले बच्चों को मास्क भी दिए जा रहे है।

Edited By: Jagran