जेएनएन, नवांशहर : एडीसी अनुपम कलेर ने बताया कि जिले में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत दो करोड़ रुपये की राशि जारी की जा चुकी हैं। वह राष्ट्रीय पोषण अभियान के तहत देश में चलाई जा रही प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना मुहिम के तहत सामाजिक सुरक्षा स्त्री बाल विकास विभाग द्वारा पोषण अभियान और निर्भया फंड व सेक्सुअल हरासमेंट के संबंध में वर्कशाप को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने बताया कि पोषण अभियान का मुख्य उद्देश्य बच्चों में बौनापन कम करने, जन्म दौरान बच्चों का वजन ढाई किलो से कम न होने देने के लिए, कुपोषित बच्चों की संख्या कम करने, बच्चों और गर्भवती महिलाओं का पूर्ण टीकाकरण करवाने और जल सप्लाई व सेनिटेशन विभाग द्वारा पीने के पानी की साफ सफाई का प्रबंध करना है। विभाग द्वारा गर्भवती महिलाओं को पहले बच्चे के जन्म पर प्रधानमंत्री मातृ वंदना स्कीम के तहत पांच हजार रुपये दिए जाते हैं। जिले में इस योजना के तहत अबतक दो करोड़ रुपये की राशि जारी की जा चुकी है। वर्कशॉप में पोषण अभियान के साथ सेहत विभाग, जल सप्लाई व सेनिटेशन विभाग और शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने भी भाग लिया। इस मौके पर जिला प्रोग्राम अफसर मनजीत कौर, डीएसपी निर्मल सिंह, सेहत विभाग से डॉक्टर कुलदीप राय, डॉक्टर बलविदर सिंह, पुलिस विभाग, जिला कानूनी सेवाएं अथॉरिटी के सदस्य, समूह सीडीपीओ और सुपरवाइजरों इसमें शामिल हुए।

स्कूलों व कॉलेजों में छात्राओं को सिखाए जाएंगे आत्मरक्षा के गुर

वर्कशॉप के दौरान निर्भया फंड जोकि शरीरिक शोषण पीड़ित को विभिन्न स्तर पर सरकार द्वारा दी जाती सेवाओं से संबंधित है के प्रति भी जानकारी दी गई। बच्चियों और स्त्रियों को इस संबंध में जागरूक करने के लिए जिला स्तर पर जागरूकता मुहिम शुरू की जाएगी। इसके तहत स्कूलों और कॉलेजों में बच्चियों को आत्मरक्षा के लिए जूडो कराटे आदि की ट्रेनिग दिलाने का प्रबंध किया जाएगा।

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!