संवाद सूत्र, मलोट (श्री मुक्तसर साहिब)

ल¨वग लिटिल प्लेवे स्कूल के बच्चों व समूह स्टाफ ने वेलेंटाइन डे छोड़ कर शहीद की तरफ से दीं कुर्बानियों को याद रखते स्कूल में एक विशेष समागम आयोजित किया गया। इसमें देश के लिए अपनी जानें कुर्बान कर गए शहीद को श्रद्धाजंलि दी गई। जिक्रयोग्य है कि 14 फरवरी दिन 1931 को शहीद भगत ¨सह, राजगुरु व सुखदेव ¨सह को फांसी की सजा सुनाई गई थी। शहीदों की इस याद को फिर ताजा करते व शहीदों के सपनों को पूरा करने व अच्छे समाज की सृजना करने का प्रण करते स्कूल में ¨प्रसिपल मीना अरोड़ा का नेतृत्व में समागम करवा कर बच्चों व स्कूल स्टाफ की तरफ से शहीदों को श्रद्धाजंलि दीं गई थीं।

¨प्रसिपल अरोड़ा ने शहीदों की सोच पर पहरा देकर समाज में फैली कुरीतियों को जड़ों से खत्म करने का न्योता देते हुए कहा कि जो देश अपने शहीदों को याद रखते हैं, वह कभी ग़ुलाम नहीं होते। हमें अपनों सूरमों को सिर्फ शहादत दिवस वाले दिन ही नहीं, बल्कि हर रोज ही याद रखना चाहिए। इस मौके पर अध्यापक टीना, स्वीटी, जगजीत, ज्योति और पूजा शर्मा आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran