जागरण संवाददाता, श्री मुक्तसर साहिब

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का पहला प्रकाश पर्व श्री दरबार साहिब कमेटी की ओर से श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया गया। बड़ी संख्या में क्षेत्र की संगत नतमस्तक हुई और पावन सरोवर में आस्था की डुबकी लगाई।

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के पहले प्रकाश पर्व संबंधी स्थानीय श्री दरबार साहिब में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से समूह संगत के सहयोग के साथ पुरातन धार्मिक रीतों अनुसार अमिृंत समय परिक्रमा में अलौकिक नगर कीर्तन सजाया गया। इस नगर कीर्तन दौरान बड़ी संख्या में संगत ने हाजिरी लगवाई। श्री दरबार साहिब, गुरुद्वारा शहीद गंज साहिब और गुरुद्वारा तंबू साहिब के अलावा पूरी परिक्रमा को सुंदर ढंग के साथ सजाया गया। 3.30 बजे श्री दरबार साहिब से श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की पवित्र छत्रछाया में और पांच प्यारों के नेतृत्व में प्रारंभ हुआ विशाल नगर कीर्तन श्री दरबार साहिब की परिक्रमा करते हुए श्री दरबार साहिब में पहुंच कर संपन्न हुआ। नगर कीर्तन की संपूर्णता की अरदास श्री दरबार साहिब के हेड ग्रंथी भाई बल¨वदर ¨सह ने की। नगर कीर्तन दौरान श्री गुरु ग्रंथ साहिब की सुंदर पालकी फूलों के साथ सजाई गई और पांच प्यारों के नेतृत्व में संगत पूरे रास्ते सतनाम -वाहेगुरु का जाप करती रही। इस मौके पर जहां सेंट सोल्जर स्कूल और इम्पीरियल पब्लिक स्कूल के बच्चों ने बैंड की धार्मिक धुनों के द्वारा माहौल को धार्मिक रंग में रंग दिया वहीं की गई सुंदर आतिशबाजी ने एक अलग नजारा पेश किया। नगर कीर्तन दौरान सुंदर सजाई पालकी और फूलों की वर्षा होती रही। हुक्मनामे के उपरांत श्री दरबार साहिब के ह•ाूरी रागी भाई ज¨तदर ¨सह ने संगत को गुरबानी कीर्तन के साथ जोड़ा। साढ़े 9 बजे प्रकाश पर्व के संबंधी गुरुद्वारा शहीद गंज साहिब में श्री अखंड पाठ साहिब के भोग डाले गए और धार्मिक दीवान सजाए गए। श्री दरबार साहिब में पूरा दिन धार्मिक समागम चलते रहे और इस दौरान कीर्तनी, ढाडी और प्रचारक ¨सहों ने संगत को गुर इतिहास के साथ जोड़ा। इसी दौरान श्रद्धालुओं की ओर से अलग अलग तरह के लंगर भी लगाए गए।

श्री दरबार साहिब के मैनेजर बलदेव ¨सह ने बताया कि इस धार्मिक समागम में परिक्रमा धुलाई संगत, प्रभात फेरी चौंकी जत्था संगत के अलावा अलग -अलग सेवा सोसायटी ने पूर्ण सहयोग दिया। इन समागमों दौरान श्री दरबार साहिब के मैनेजर बलदेव ¨सह, एडीशनल मैनेजर मन¨जदर ¨सह, हरपाल ¨सह बेदी प्रधान नगर कौंसिल, अमनप्रीत ¨सह मकड़, जगमीत ¨सह जगी काऊंसलर, कुलदीप ¨सह परूथी, गुरदीप ¨सह, जगमेल ¨सह, कुलवंत ¨सह, हरनेक ¨सह नेकी आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran