संवाद सहयोगी, श्री मुक्तसर साहिब

पंजाब रोडवेज, पनबस कांट्रैक्ट वर्कर्स यूनियन पंजाब तथा पीआरटीसी के समूह कच्चे मुलाजिमों की तरफ से पंजाब के 27 डिपुओं के आगे शनिवार को गेट रैलियां की गई। मुक्तसर में डिपो में रैली के दौरान राज्य सचिव कमल कुमार, डिपो प्रधान हरजिदर सिंह तथा महासचिव तरसेम सिंह ने बताया कि सरकार पंजाब रोडवेज तथा पीआरटीसी के कच्चे मुलाजिमों के साथ भेदभाव कर रही है। 14-15 वर्षाें से कार्य कर रहे मुलाजमों को पक्के करने की बजाए कोरोना महामारी में अपनी जान कुर्बान करने वाले मुलाजमों के परिवारों को कोई फंड या सहूलियत नहीं दे रही। पंजाब रोडवेज तथा पीआरटीसी के पास बसें नाममात्र ही रह गई है। अगर महिलाओं को फ्री में सफर की सहूलियत देनी है तो सरकार को कम से कम दस हजार बसें नई डालनी चाहिए।

पंजाब रोडवेजे, पनबस तथा पीआरटीसी के सभी कच्चे मुलाजमों की तरफ से 19 मई को प्रेस कांफ्रेंस की जाएगी। 24 मई को बस अड्डों पर सरकार की गलत नीतियों के बारे में लोगों को जानकारी दी जाएगी। पांच-छह जून को मंत्रियों के घरों का घेराव किया जाए। 14 जून को बस अड्डों में सरकार के पुतले फूंके जाएंगे। 16 जून को जोन वाइज कांफ्रेंस की जाएगी। 25 जून को गेट रैलियां करके 28 से 30 जून को हड़ताल की जाएगी। पटियाला, चंडीगढ़, मलेरकोटला में धरने दिए जाएंगे। अगर सरकार की तरफ से मांगे न मानी गई तो यह हड़ताल अनिश्चितकालीन समय तक चलेगी। इस मौके पर बलकार सिंह, गुरविदर सिंह, सुधीर कुमार, अमरीक सिंह, हरप्रीत सिंह, बेअंत सिंह, अंग्रेज सिंह, गुरमेल सिंह आदि उपस्थित थे।