संवाद सूत्र, गिद्दड़बाहा (श्री मुक्तसर साहिब) : कंप्यूटर अध्यापक यूनियन के जिला प्रधान हरजीत सिंह की अगुआई में जूम बैठकें की गई। जिसमें सरकार की तरफ से मुलाजिम वर्ग के साथ भेदभाव का व्यवहार किया जा रहा है। कंप्यूटर अध्यापकों की रैलियों धरनों के बाद भी कंप्यूटर अध्यापकों की जायज मांगों के लिए सरकार द्वारा की बैठकों में सिवाए आश्वासन के कुछ भी नहीं दिया जा रहा। बीते दिनों बठिडा जिले से भी साथी कुलवंत सिंह कम्प्यूटर अध्यापक, सरकारी हाई स्कूल आदमपुर की कोरोना की बीमारी से मौत हो गई। जबकि इससे पहले भी पंजाब में कोरोना की बीमारी या किसी घटना के कारण कई अध्यापक दुनिया को अलविदा कह गए है, लेकिन अज तक समय की सरकारों ने किसी भी किस्म का कोई भी लाभ अब अध्यापकों के परिवारों को नहीं दिया गया। कुलवंत सिंह के परिवार को हक दिलवाने के लिए 26 जुलाई सोमवार को कंप्यूटर अध्यापकों की तरफ से डीसी कांप्लेक्स मुक्तसर में रोष प्रदर्शन किया जाएगा। नेताओं ने कहा कि पंजाब सरकार के साथ 27 जुलाई को स्टेट कमेटी पंजाब के साथ पैनल बैठक होने जा रही है। अगर इसमें भी दोबारा फिर से आश्वासन दिया गया तो महारैली का एलान किया जाएगा। तबादले को लेकर यूनियन का धरना जारी

कोटकपूरा में कर्मचारी की बदली को लेकर आज फिर पावर कारपोरेशन की कर्मचारी यूनियन और अधिकारी के बीच खींचतान लंबी हो गई और मामले ने तूल पकड़ लिया। पावर कारपोरेशन की टेक्निकल सर्विस यूनियन की तरफ से शुक्रवार को एक्सईएन कोटकपूरा के कार्यालय के आगे धरना लगा कर निगम और अधिकारी विरुद्ध नारेबाजी की गई।

प्रदर्शनकारियों में शामिल गब्बर सिंह, किसान नेता नैब सिंह भगतूआना आदि ने एक्सईएन कोटकपूरा और आड़ियल रवैया अपनाने का दोष लगाते कहा कि कर्मचारी सुखविन्दर सिंह की बदली तुरंत यूनियन की मांग अनुसार की जाए। अगर अधिकारी ने अपनी जीद न छोड़ी तो संघर्ष तीखा किया जाएगा जिसकी जिम्मेदारी उच्च आधिकारियों की होगी।

Edited By: Jagran