संवाद सहयोगी, श्री मुक्तसर साहिब

जलालाबाद रोड पर रेलवे बी 30 पर बन रहे फ्लाईओवर के निर्माण में लगातार हो रही देरी के कारण शहर के व्यापारियों तथा कारोबारियों बहुत ही बुरा असर पड़ रहा है। 15 माह के अंदर फ्लाईओवर का कार्य मुकम्मल करने पर सरकार के दावे हवा साबित हो रहे है। 20 जनवरी 2019 को पीडब्ल्यूडी मंत्री विजेंदर सिगला ने भूमी पूजन करके पुल के उद्घाटन करने तथा इसे 15 माह में पुल का निर्माण मुकम्मल करने का ऐलान किया था। लेकिन पुल के निर्माण में देरी होने के कारण इलाके वासियों, व्यापारियों, शहरवासियों तथा पुल से प्रभावित दुकानदारों में काफी रोष है। 13 फरवरी 2019 को डाइवर्शन प्लाट (रूट बदलने) जलालाबाद रोड, गुरुहरसहाय रोड का ट्रैफिक जलालाबाद रोड बाइपास सूए के साथ-साथ होते हुए जाएगा तथा जिला प्रशासन की तरफ से 13 फरवरी 2019 को फाटक बंद कर दिया गया। लोक निर्माण विभाग तथा रेलवे अधिकारियों ने मई 2020 तक कुल रकम मुकम्मल करने का वायदा किया था, लेकन 18 माह बीते जाने के बावजूद भी पुल के निर्माण सुस्त गति से चल रहा है। जिस कारण दुकानदार तथा आम लोगों में परेशानी बढ़ रही है। फाटक पार के लोग रेवले रोड तथा घास मंडी को जाने वाली आम रस्ता ना होने के कारण तथा कोरोना करके दुकानदारों का कार्य पहले से ही ठप हो गया है। इसके साथ लगते गांव वासी भी अपनी जरुरत का समान खरीदने के लिए घास मंडी में नहीं आ सकते। क्योंकि यह रास्ता बंद हो गया। जहां तक मरीजों को अस्पताल ले जाने के लिए नए रास्ते से होकर जाना पड़ता है। कोरोना करके पुल के कार्य तथा लेबर की कमी के कारण कार्य प्रभावित हुआ है। इसके अलावा ठेकेदार को पैमेंट ना होने की बहुत बड़ा कारण है। नैशनल कंज्यूमर अवेयरनैस ग्रुप के ओहदेदार शाम लाल गोयल, बलदेव सिंह बेदी, भंवर लाल शर्मा, गोबिद सिंह दाबड़ा, जसवंत सिंह बराड़, सुभाष चंद्र तथा काला सिंह बेदी ने जिला प्रशासन से मांग की है कि पुल के निर्माण कार्य में तेजी लाई जाए तथा पुल से प्रभावित दुकानदारों को मुआवजा दिया जाए। उन्होंने मांग की है कि फाटक नंबर 30 से दोपहिया वाहनों के निकलने का प्रबंध किया जाए।

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!