संवाद सहयोगी,मोगा

युवक का गुप्तांग काट कर आधी रात को बेहोशी की हालत में उसे सड़क पर फेंकने के मामले में वीरवार को नया मोड़ आ गया। सभी तीनों आरोपितों के फरार होने के बाद अब पीड़ित युवक भी फरीदकोट मेडिकल कालेज से फरार हो गया है। पुलिस ने इस मामले में तीन महंतों के खिलाफ केस दर्ज किया था। इससे पहले कि आरोपितों की गिरफ्तारी हो पाती है, उससे पहले ही पीड़ित भी अस्पताल से भाग निकला।

सूत्रों का कहना है कि पुलिस की प्रारंभिक जांच में मामले संदेह के घेरे में आने लगा था। इस पूरी जांच में समाजसेवी बोबी महंत को फंसाने का प्रयास किया गया था। पुलिस जांच में बोबी महंत को सीसीटीवी कैमरों की फुटेज व मौके की जांच के बाद क्लीन चिट दे दी गई थी। पुलिस ने प्रारंभिक जांच के बाद सबनियां महंत निवासी फिरोजपुर, कोमल महंत व सांभा महंत निवासी गांव कोरेवाला छोटा मोगा के खिलाफ केस दर्ज किया था। पीड़ित का आरोप था कि कोमल नामक महंत ने उसे शहर में एक जागरण में झांकी निकालने के लिए मोगा बुलाया था । मंगलवार शाम चार बजे वह मोगा के बस स्टेंड पर पहुंचा था। जहां से कोमल मंहत उसे लेकर चला गया था। रात करीब साढ़े आठ बजे कोमल महंत ने उसे चाय पिलाई थी। उसके बाद वह युवक बेहोश हो गया। बाद में कुछ लोगों ने उसे बाईपास से लहूलुहान हालत में उठाकर मथुरादास सिविल अस्पताल में पहुंचाया। युवक की शादी 15 फरवरी को तय हो चुकी है।

फिरोजपुर के इस युवक के सड़क पर पड़े मिलने के बाद हड़कंप मच गया था। प्रारंभिक जांच में जो तथ्य सामने आए थे, दैनिक जागरण ने उसे प्रमुखता के साथ वीरवार को प्रकाशित किया था, जिसमें आरोपितों के साथ पीड़ित के खिलाफ भी शिकंजा कसता नजर आने लगा था। माना जा रहा है कि पीड़ित इसी के चलते वीरवार को मेडिकल कालेज फरीदकोट से फरार हो गया। मोगा के मथुरादास सिविल अस्पताल से उसे मेडिकल कालेज रेफर किया गया था।

Edited By: Jagran