संवाद सहयोगी, मोगा : शहरवासियों को लावारिस पशुओं से निजात दिलाने के लिए शहर से पशुओं को पकड़कर किशनपुरा कलां, चड़िक रोड तथा बुक्कनवाला स्थित गोशालाओं में भेजा जाएगा।

यह बात मंगलवार को डिप्टी कमिश्नर डीपीएस खरबंदा आइएएस ने लावारिस पशुओं की समस्या का हल करने के लिए नगर निगम, पशु पालन विभाग, नगर निगम के पार्षदों तथा समाजसेवियों की बैठक की अध्यक्षता करते दी। इस मौके पर उनके साथ सहायक कमिश्नर लाल विश्वास बैंस, कमिश्नर नगर निगम अनीता दर्शी, डिप्टी डायरेक्टर पशु पालन विभाग डॉ. गुरमीत ¨सह, एसपी वजीर ¨सह तथा एनजीओ एसके बांसल आदि मौजूद थे। इस मौके डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि दुन्नेके (खोसा पांडो रोड नजदीक कंडा), कैंप रोड, मोगा जीत¨सह तथा लंडेके स्थानों से लावारिस जानवरों को पकड़ा जाएगा। जख्मी जानवरों के इलाज के लिए पशु पालन विभाग के वैटर्नरी डाक्टरों का सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि चड़िक रोड पर 3 एकड़ जमीन में पशुओं के लिए चारा बीजने के प्रबंध किए जाएंगे, ताकि आवारा जानवरों के लिए चारे की कोई समस्या न आए। बैठक दौरान पार्षदों की ओर से लावारिस जानवरों को शहर में सड़कों पर ही लोगों की ओर से चारा डालने से यातायात में पड़ते विघ्न बारे डिप्टी कमिश्नर के ध्यान में लाने पर डीपीएस खरबंदा ने कमिश्नर नगर निगम को चारा कुतरने वाले टोके सड़कों से हटाकर गोशालाओं के आगे ही लगवाने के आदेश दिए। तीन जिलों से आएंगी टीमें

उन्होंने बताया कि इन जानवरों को पकड़ने के लिए ब¨ठडा, जालंधर तथा पटियाला से माहिरों की टीमें मंगवाई जा रही है, जो तकनीकी विधि द्वारा इन जानवरों को पकड़ने में सहयोग देंगी। उन्होंने बताया कि बुधवार से ही लावारिस पशुओं को पकड़ने का काम शुरू किया जाएगा।

Posted By: Jagran