जागरण संवाददाता, मोगा : अकाली नेता बरजिदर सिंह बराड़ मक्खन ने सबूतों के साथ मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के लाल लकीर के अंदर मालिकाना हक देने के मामले की पोल खोली। उन्होंने सबूतों के साथ दावा किया कि ये सुविधा अकाली दल की बादल सरकार ने 16 दिसंबर 2016 को दी थी। मक्खन ने मीडिया को उस समय का जारी नोटीफिकेशन दिखाते हुए कहा कि साल 2017 में कांग्रेस सरकार आने के बाद 18 जून 2018 को कांग्रेस सरकार ने इस पर रोक लगा दी थी।

पंजाब हेल्थ सिस्टम कारपोरेशन के चेयरमैन रह चुके बरजिदर सिंह बराड़ ने कहा कि अब जब चुनाव करीब आ गए तो कांग्रेस के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अकाली दल में हुए फैसले को दोबारा लागू कर पंजाब के लोगों को भ्रमित करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस तो हमेशा से विकास के कामों को रोकती रही है, उसे तो विकास के काम तब याद आते हैं जब चुनाव करीब आ जाते हैं। उन्होंने शहर में हुए विकास के कामों का उदाहरण देते हुए कहा कि जिला प्रबंधकीय कांप्लेक्स की साल 2001 में जब जत्थेदार तोता सिंह थे, तब सात मंजिली बिल्डिग का प्रस्ताव मंजूर हुआ था, पूरी राशि उसी समय जारी कर दी गई थी। साल 2002 में कांग्रेस सरकार ने ये काम पांच मंजिलों पर ही रोककर ग्रांट वापस मंगा ली थी। अस्पताल की बिल्डिग

मथुरादास सिविल अस्पताल में चार मंजिला 40 बेड के जिस वूमेन एंड चाइल्ड केयर ब्लाक बनाने का श्रेय कांग्रेस सरकार लेने की कोशिश कर रही है वह बिल्डिग तो जब वे हेल्थ सिस्टम कारपोरेशन के चेयरमैन थे, उनके कार्यकाल में ही बन गई थी। कांग्रेस के शासन में तो फिनिशिग का काम शुरू हुआ है। पंजाब सरकार ने इसकी ग्रांट भी वापस मंगा ली थी, यही वजह है कि कांग्रेस सरकार के स्वास्थ्य मंत्री लोगों को गुमराह करने के लिए खाली बिल्डिग का ही उद्घाटन करते चले गए जो उपकरण बिल्डिग में लगने हैं वह तो अभी तक नहीं आए। पंजाब सरकार उपकरणों के लिए पैसे तक नहीं दे सकी है। आयुष अस्पताल भी केंद्र का

अकाली नेता ने आरोप लगाया कि जिस आयुष अस्पताल को कांग्रेस मोगा में लाने का दावा कर रही है वो भी केंद्र सरकार की राशि से बन रहा है। कांग्रेस सरकार ने मोगा के विकास के लिए पिछले पौने पांच साल में एक भी पैसा दिया हो तो कांग्रेस बताए। विकास के नाम पर कांग्रेस सिर्फ झूठे दावे कर रही है, लोगों को चुनाव के करीब आकर भ्रमित करने की कोशिश कर रही है लेकिन अब यहां के लोग कांग्रेस के झूठी बातों में आने वाली नहीं है।

Edited By: Jagran