संवाद सहयोगी, मोगा : मोगा के नेचर पार्क के पास बुधवार को 5178 मास्टर केडर यूनियन द्वारा अध्यापक दिवस को काला दिवस तहत मनाया गया। इस दौरान पंजाब सरकार की लोक विरोधी नीतियों के खिलाफ पुतला फूंककर नारेबाजी की गई। इस अवसर पर जत्थेबंदी के जिला ने कहा कि पंजाब सरकार के शिक्षा क्षेत्र में किए विकास के दावे बिल्कुल खोखले हैं। क्योंकि अब समय में अध्यापकों की जो हालात है खास करके पंजाब की प्रमुख 5178 टीईटी पंजाब पास वह बहुत ही निराशा वाली है जो कि अपनी शर्त अनुसार शिक्षा विभाग की मंजूरशुदा आसामियों पर तीन वर्ष नाममात्र वेतन पर अपनी सेवाएं निभा चुके हैं, उसके बाद भी आज के समय तक सेवाओं को रेगुलर नहीं किया गया। इसके रोष तहत आज अध्यापक दिवस दौरान सरकार का ध्यान दिलाने के लिए शहर में रोष मार्च निकाला गया तथा पुतला फूंका गया। इस मौके मैडम रुपेंद्र, बलजीत कौर, अमनदीप कौर, पूजा गिल, राजवीर कौर, पर¨मदर कौर, मैडम सोनिया, किरणदीप कौर, दीपमाला, रविजोत कौर, मास्टर सतपाल कालडा, बल¨वदर ¨सह, सिमरनजीत ¨सह, गुरप्रीत ¨सह, ज¨तदरपाल ¨सह भोला, जजपाल बाजेके,गुरमीत ¨सह, दलवीर ¨सह,, दिगविजयपाल, केवल ¨सह, बूटा ¨सह भट्टी, कुलदीप ¨सह, गुरप्रीत अम्मीवाला, सुख¨जदर ¨सह, सुरेन्द्र ¨सह, कुल¨वदर ¨सह आदि उपस्थित थे। नवंबर में ठेका हो चुका है पूरा

नियुक्ति पत्र की शर्तो अनुसार 5178 अध्यापकों का तीन वर्ष का ठेका नवंबर 2017 में पूरा हो चुका है, लेकिन नौ महीने का समय बीतने के बावजूद भी रेगुलर नहीं किया गया, ब्लकि वित्त विभाग द्वारा वेतन पर रोक लगा दी गई है। पूरी वेतन से अपनी सेवाएं निभा रहे इन अध्यापकों की सरकार द्वारा आर्थिक लूट जारी है।

Posted By: Jagran