संवाद सहयोगी.मोगा

कोट ईसे खां के वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी (एसएमओ) डा.राकेश कुमार बाली की सफारी गाड़ी की टक्कर से 14 वर्षीय किशोरी की मौत के बाद शनिवार को फरीदकोट मेडिकल कालेज में उसकी मां ने भी दम तोड़ दिया था।

थाना धर्मकोट पुलिस ने इस मामले में पहले तो एसएमओ डा.बाली को थाने से छोड़ दिया था। शनिवार दोपहर को किशोरी के बाद उसकी मां की मौत की सूचना मिलने के बाद पुलिस हरकत में आई। इसके बाद डा.बाली के खिलाफ लापरवाही से मौत के मामले में धारा 304ए, 279, 337, 427 के तहत केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

यह है मामला

फिरोजपुर के गांव सोढीवाला निवासी मजदूर लखबीर सिंह शुक्रवार को धर्मकोट के गांव ढोलेवाला में अपने मामा ससुर के यहां से मोटरसाइकिल से घर लौट रहा था। उसके साथ उसकी दो बेटियां व पत्नी प्रीत कौर भी मोटरसाइकिल पर सवार थीं। लखबीर सिंह जैसे ही जलालाबाद के निकट हाईवे पर चढ़ा तो तेज गति से आई कोट ईसे खां के एसएमओ डा.राकेश कुमार बाली की सफारी गाड़ी ने मोटरसाइकिल में टक्कर मार दी, जिसमें लखबीर की 18 साल की बेटी मुस्कान करीब 10-12 फीट ऊंचाई तक उछलते हुए डिवाइडर पर लगे बिजली के खंभे से टकराकर सड़क पर जा गिरी। मौके पर ही उसकी मौत हो गई थी। पत्नी प्रीत कौर व ढाई साल की बेटी अर्शप्रीत व खुद भी गंभीर रूप से घायल हो गया। पहले मामले को दबाती रही पुलिस

प्रीत कौर, अर्शप्रीत व लखबीर सिंह को शुक्रवार की शाम को पहले मथुरादास सिविल अस्पताल में भर्ती कराया था। हालत गंभीर होने के बाद मथुरादास सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। घायलों के अस्पताल पहुंचने के बाद थाने का एक कांस्टेबल भी आया था। रात में घायल प्रीत कौर की हालत गंभीर होने पर उसे फरीदकोट मेडीकल कालेज में भर्ती कराया गया था, जहां दोपहर में प्रीत कौर की भी मौत हो गई थी। इससे पहले इस मामले की जांच कर रहे थाना धर्मकोट के एएसआइ दविदर जीत सिंह ने बताया था कि परिवार के लोग नहीं मिल रहे हैं इसलिए एफआइआर दर्ज नहीं हुई है, डाक्टर बाली को छोड़ दिया गया है, उन्हें दोबारा जांच के बाद हिरासत में ले लेंगे। दोपहर में जैसे ही बेटी के बाद मां की मौत को सूचना आई। इसके बाद पुलिस हरकत में आई। डा.बाली को बाद में फिर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। हालांकि मौके पर मौजूद भीड़ ने शुक्रवार की शाम को हादसे के बाद ही मौके पर ही डा.बाली को पकड़कर थाना धर्मकोट पुलिस के हवाले कर दिया था, लेकिन मथुरादास सिविल अस्पताल में शुक्रवार रात को एसएमओ का मेडिकल कराने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया था। यही वजह है कि पुलिस की हिरासत में आने के 24 घंटे बाद भी पुलिस डा.बाली को अदालत में पेश नहीं कर सकी है। लापरवाही से मौत का केस दर्ज

जांच अधिकारी एएसआइ दविदरजीत सिंह शनिवार को फरीदकोट मेडिकल कालेज में महिला ने भी दम तोड़ दिया था। थाना धर्मकोट पुलिस ने इस मामले में पहले तो एसएमओ डा.बाली को थाने से छोड़ दिया था। शनिवार दोपहर को किशोरी के बाद उसकी मां की मौत की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू की। डा.बाली के खिलाफ धारा 304ए, 279, 337, 427 के तहत केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

पहले भी शिकायतें मिलती रही हैं

डा.राकेश बाली कोट ईसे खां सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर साल 2018 से नियुक्त हैं। उन पर उन्हीं का स्टाफ ड्यूटी समय के दौरान भी शराब पीने के आरोप लगाते रहे हैं। शराब पीकर स्वास्थ्य केन्द्र के पिछले हिस्से में बने क्वार्टर की तरफ जाने पर कई बार महिला स्टाफ ने इसका विरोध भी किया था, लेकिन बदनामी के बाद ये मामला सामने नहीं आ सका था।

Edited By: Jagran