जागरण संवाददाता, मोगा : एक तरफा प्यार में आशिक असफल रहा तो घर में शिकायत लेकर पहुंचे महिला के पति की स्कूटी में तेज रफ्तार बाइक से टक्कर मार दी, हादसे में महिला के पति के सिर में गंभीर चोट लगी थी। इस संगीन मामले में थाना सिटी-1 पुलिस 12 दिन तक आरोपित का साथ देती रही। शुक्रवार को महिला जब खुद एसएसपी अमरजीत सिंह बाजवा के समक्ष पेश हुई तो एसएसपी की फटकार के बाद थाना सिटी-1 में घटना के 12 दिन बाद पुलिस ने केस दर्ज किया। हालांकि अभी तक आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हुई है, जबकि वह खुलेआम घूम रहा है।

न्यू विश्वकर्मा नगर निवासी एक महिला ने बताया कि वह कंबाइंड फैमिली में रहती थी, आर्थिक रूप से परिवार में ज्यादा सहयोग न कर पाने के कारण घर में अक्सर कलह रहती थी। एक दिन विश्वकर्मा नगर में रहने वाले नवदीप पुरी ने उसके पति से कहा कि गांव कोकरकलां में उसका मकान खाली पड़ा रहा है, वे आर्थिक रूप से कमजोर हैं तो कोई बात नहीं किराया न दें, उसके घर में आकर रहने लगें, वह शैलर में उसकी पति-पत्नी की नौकरी भी लगवा देगा। इसके बाद वे दोनों कोकरीकलां में जाकर रहने लगे। महिला ने एसएसपी को दी शिकायत में कहा कि 10 दिन तक तो सब ठीक चलता रहा बाद में नवदीप पुरी घर में आकर उसके साथ छे़ड़छाड़ करने लगा। हालांकि उसने शैलर में नौकरी लगवा दी थी, लेकिन बाद में वह इस बात पर उस पर दबाव बनाने लगा कि नाइट शिफ्ट में अपनी ड्यूटी चेंज करा ले, ताकि उनका मिलना आसान हो जाएगा, उसने मना कर दिया तो घर आकर उसने परेशान करना शुरू कर दिया।

आरोपित की हरकतों से तंग आकर वह पति के साथ नवदीप पुरी के घर 22 दिसंबर को उसकी पत्नी से शिकायत करने पहुंची तो उस समय नवदीप घर में नहीं था। शिकायत कर उसका पति दीपक जब स्कूटी स्टार्ट करके मोड़ने लगा तभी नवदीप पुरी ने तेज रफ्तार बाइक से स्कूटी में टक्कर मार दी, जिससे उसका पति सड़क पर जा गिरा और सिर में गंभीर चोट लगी।

मथुरादास सिविल अस्पताल में दीपक का एक सप्ताह तक इलाज चला था। इस दौरान थाना सिटी-1 के सहायक थानेदार बलबीर सिंह ने 23 दिसंबर को उसके पति के अस्पताल में जाकर बयान दर्ज कर लिए थे, लेकिन कार्रवाई नहीं की। पीड़ित महिला शुक्रवार को स्वयं एसएसपी के सक्षम पेश हुई, पूरी दास्तां उन्हें सुनाई। एसएसपी अमरजीत सिंह बाजवा की फटकार के बाद आखिरकार थाना सिटी-1 में तीन जनवरी की देर रात को आरोपित विश्वकर्मा नगर निवासी नवदीप पुरी के खिलाफ हमला व छेड़छाड़ करने का मामला दर्ज कर लिया। कार्रवाई में देरी की वजह पूछने पर सहायक थानेदार बलबीर सिंह का कहना है कि मामले की जांच चल रही थी।

आम लोगों की नहीं, नेताओं की है पुलिस

थाना कोट ईसे खां के गांव मस्तेवाला में 29 नवंबर की रात को 12 बजे के बाद डीजे चलाने से मना करने पर करन नामक युवक की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में छह लोग नामजद हुए थे, गिरफ्तार आज तक दो ही हुए।

इसी मामले में विवादित बयान देने पर आक्रोशित लोगों ने धर्मकोट के विधायक सुखजीत सिंह काका लोहगढ़ गाड़ी में तोड़फोड़ कर डाली थी। पुलिस ने 70 से ज्यादा लोगों के खिलाफ केस दर्ज छह को गिरफ्तार भी कर लिया। केस में बाद में कई ऐसे लोगों को भी नामजद कर दिया जो घटनास्थल पर ही नहीं थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!