संवाद सहयोगी,मोगा

गैंगस्टरों तथा ड्रग माफिया के खिलाफ जीरो टोलरेंस नीति अपनाते हुए एसएसपी हरमनबीर सिंह गिल की अगुआई वाली मोगा पुलिस ने पिछले वर्ष के दौरान कई गिरोहों का पर्दाफाश किया है तथा कई गैंगस्टरों को गिरफ्तार किया है।

एसएसपी गिल ने कहा कि जिला पुलिस ने 50 से अधिक गैंगस्टरों, उनके साथी तथा कुख्यात अपराधियों को गिरफ्तार कर 14 गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने 16 वाहनों समेत 40 से अधिक हथियार बरामद किए हैं तथा आरोपितों के कब्जे में से भारी मात्रा में नशीली दवाएं जब्त की हैं। पुलिस ने हाल ही में गैंगस्टर सुक्खा लम्मा गैंग गिरोह द्वारा चलाए जा रहे एक बड़े टारगेट किलिग व फिरौती के काले धंधे का भी पर्दाफाश किया है। इसमें गैंग के आठ सदस्यों को गिरफ्तार किए गए जो खालिस्तान टाइगर फोर्स (केटीएफ) के प्रमुख हरदीप सिंह के इशारे पर काम कर रहे थे। इनकी गिरफ्तारी ने उस समूह की रीढ़ तोड़ दी जिसके द्वारा पंजाब के मालवा क्षेत्र में अमीर कारोबारियों को फिरौती के पैसे के लिए निशाना बनाकर धमकी दी जाती थीं कि वह अदायगी में सफल रहे तो उनको जान से मार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) द्वारा इस समय मामले की जांच की जा रही है।

एसएसपी हरमनबीर सिंह गिल ने बताया कि इसके अलावा मोगा पुलिस ने अप्रैल 2021 में बंबीहा गैंग के साथी चमकौर सिंह उर्फ बेअंत (तीन शार्प शूटर निशानेबाजों में से एक जिसने 2020 में चंडीगढ़ में सोपू के प्रदेश अध्यक्ष गुरलाल सिंह व सुनील कुमार उर्फ बाबा को मारा था, को गिरफ्तार किया। अक्टूबर 2020 में मोगा पुलिस ने एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश किया जिसमें कुख्यात गैंगस्टर हरमन भाऊ, अजय कुमार उर्फ मनी तथा अमृतपाल सिंह भिडर शामिल थे, जो हाईवे पर चोरी, फिरौती, हत्या प्रयास, लूटपाट आदि में शामिल थे। उन्होंने कहा कि गैंगस्टरों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जिला पुलिस निर्दोष नागरिकों की जान व माल की बचत तथा कारोबारियों के लिए व्यापारिक माहौल बनाने के लिए सरगर्मी से काम कर रही है।

Edited By: Jagran