संवाद सहयोगी, मोगा

हमारा अपना जीवन बढि़या हो तभी हम अपने बच्चों को अच्छे संस्कार दे सकेंगे। संस्कारवान व्यक्ति ही आगे बढ़ता है। यह बात देवी दास केवल कृष्ण चेरिटेबल ट्रस्ट में चल रहे चरित्र निर्माण शिविर में संस्थान की संचालिका इंदु पूरी ने कही। उन्होंने कहा की उन्हें बड़ी प्रसन्नता है की वह बेटियों को प्रशिक्षण दे रही हैं। समागम में छात्राओं ने यह तेरा है ये मेरा है पराया है या अपना है, मेरा रंगदे बसंती चोला आदि से समा बांधा । छात्राओं ने राजस्थानी गीत काल बेलिआ पेश कर दर्शकों का मन मोह लिया। विशेष रूप में उपस्थित सीजीएम वनीत नारंग, विवेक पुरी, अनुराधा ने कहा की हम वाट्सअप व फेसबुक का सदुपयोग करें। दुरुपयोग करने से हमारे मन में विकार बन जाते हैं। विज्ञान की इस खोज का लाभ लें और इससे कुछ सीखें। ट्रस्ट की संचालिका मैडम इंदु पुरी ने कहा अब तक इस शिविर से 2000 से अधिक छात्राए संस्कार लेकर अपना कार्य कर रही हैं। महात्मा चैतन्य मुनि ने कहा की राष्ट्र का पतन हो रहा है। हमें ऐसे कार्य करने चाहिए की हम संसार में ना रहें, लेकिन हमारा यश ऐसा हो की लोग हमें याद करें। हमे परिश्रम करते रहना चाहिए। यति सत्या प्रिया मेरा सत चित आनंद कोई कोई जाने रे का गायन किया। मंच का संचालन करते आचार्य सुनील कुमार शास्त्री ने कहा की हमें अपने विचारो को अच्छा बनाना है। साथ अपने पहरावे को भी अच्छा रखना है। आचार्य सुनील शास्त्री ने कहा कि योग से बच्चों को तंदुरुस्ती प्रदान होती है। हमें सुबह व सायं योग के आसन करने चाहिए। भारतीय जागृति मंच के संस्थापक डॉ. दीपक कोछड़, व¨रदर कौड़ा ने ट्रस्ट द्वारा चलाए जा रहे इस शिवर की सराहना की। ट्रस्ट की संचालिका मैडम इंदु पुरी ने आए गणमान्यों का अभिनंदन किया। इस अवसर पर डॉ. दीपक कोछड़, व¨रदर कौड़ा, इंदु पुरी, डॉ. सीएल सचदेवा, बल¨वदर ढल, सत्य प्रकाश उप्पल, पृथ्वीराज चाटले, वेदव्यास, सरोज सोंधी, हजुर ¨सह गर्ग, बूटा राम, रा¨जदर ढंड, तारणी पुरी, ,जोगिन्दर ¨सगला, म्यूजिक अध्यापिका रानी गुप्ता, जसवीर कौर ,सीमा गुप्ता, मोहिनी ¨सह, शिव कुमार , मानसी, आशा अरोड़ा व अनुराधा आदि मौजूद थे।

-----

तरलोक नरूला

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran