जेएनएन, मोगा। गणतंत्र दिवस से पूर्व पंजाब के कई धार्मिक गुरुओं पर हमला करवाकर आइएसआइ अपनी मौजूदगी दर्ज करवाने की फिराक में है। देश के खुफिया तंत्र से मिले इनपुट के बाद डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने हिंदू सुरक्षा समिति एवं जूना अखाड़ा के प्रमुख जगदगुरु पंचानंद गिरि के अलावा राज्य के कई अन्य धार्मिक गुरुओं की सुरक्षा कड़ी करने के आदेश जारी किए हैं। पुलिस ने पंचानंद गिरि को 26 जनवरी तक कम से कम सफर करने की सलाह दी है।

एडीजीपी गौरव यादव ने बताया कि खुफिया एजेंसियों की सूचना पर पंचानंद गिरि की सुरक्षा की समीक्षा करवाई गई है। राज्य में उनके जितने भी डेरे हैं वहां पांच-पांच पैरा मिलिट्री जवान व दो-दो महिला पुलिस कर्मी तैनात कर दिए गए हैं। माथा टेकने आने वाली महिलाओं को भी जांच के दायरे से गुजरना यकीनी बनाया गया है। पटियाला-संगरूर रोड पर स्थित बाबा रणजीत ङ्क्षसह ढंडरियां वाले की सुरक्षा को भी पहले से कड़ा करने के आदेश जारी हुए हैं।

पढ़ें : पंजाब चुनाव: बैंस का दावा, कांग्रेस में शामिल नहीं होंगे नवजोत सिंह सिद्धू

प्रमुख सड़कों पर लगेंगे नाके

गणतंत्र दिवस की सुरक्षा को लेकर डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने सभी जिलों के एसएसपी को आदेश दिए हैं कि वह अपने-अपने अधिकार क्षेत्र की सभी प्रमुख सड़कों और जिलों के प्रमुख प्रवेश द्वारों पर औचक नाकाबंदी कर वाहनों की जांच करें। वाहनों की जांच के समय वीडियोग्राफी भी करवाई जाए। एडीजीपी गौरव यादव के अनुसार हर एसएसपी से कहा गया है कि वह अपने प्रत्येक थाना प्रभारी से रात्रि गश्त भी करवाएं।

धर्म के नाम पर शहीद होने से नहीं लगता डर : पंचानंद गिरि

जगदगुरु पंचानंद गिरि ने कहा कि धर्म के नाम पर उन्हें शहीद होने से कभी डर नहीं लगा। वह हिंदू धार्मिक सामग्री का अपमान करने वाले विरोधियों को ललकार चुके हैं। काठमांडू से इंडियन एयरलाइन के विमान को अगवा कर कंधार ले जाने के मामले में गिरफ्तार तीन आतंकियों पर उन्होंने हमला करवाया। एडीजीपी यादव ने उन्हें 26 जनवरी ही नहीं, बल्कि चुनाव संपन्न होने तक कम से कम सफर करने की सलाह दी है। इसके बाद वह कई कार्यक्रम बदल चुके हैं।

पढ़ें : पंजाब विधानसभा चुनाव: कांग्रेस का घोषणापत्र जारी, युवाआें व किसानों पर जोर

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!