संवाद सहयोगी, मोगा:

जिले में पिछले 24 घंटे विभिन्न जगहों पर हुए सड़क हादसों में चार लोगों की मौत हो गई। हादसे में मारे गए एक युवक की मंगनी हो चुकी थी, 14 अक्टूबर को शादी होनी थी। जबकि अभी एक सितंबर से ही उसने नौकरी शुरू की थी।

केस.1

जालंधर के गांव सेलकियाना निवासी 21 साल के हरदीप राम इंसा पुत्र किशनकुमार एक सितंबर को मोगा में एक फाइनेंस कंपनी में जाब शुरू किया था। हरदीप 16 सितंबर को अपने साथी नरेश कुमार के साथ मोटरसाइकिल से गांव तारेवाला से फाइनेंस की किस्तें लेकर लौट रहा था तो गांव सिघावाला के निकट पीछे से आ रही ब्रेड की सप्लाई देने वाली गाड़ी ने उसकी मोटरसाइकिल में पीछे से टक्कर मार दी, जिससे हरदीप सिर के बल सड़क पर जा गिरा, जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। गौर हा कि इस दौरान वह हेलमेट नहीं पहना था, यदि हेल्मेट पहना होता तो शायद आज अपनों के बीच में होता। जबकि पीछे बैठे नरेश को ज्यादा चोट नहीं आई। राहगीरों ने हरदीप को अस्पताल पहुंचाया लेकिन वहां उसे मृत घोषित कर दिया। हरदीप के परिजनों ने बताया कि हरदीप सिंह की जालंधर में भोरे गांव में मंगनी हो चुकी थी, 14 अक्टूबर को उसकी शादी होना तय हो गई थी। केस.2

घल्लकलां निवासी पवन कुमार पुत्र ओमप्रकाश 16 सितंबर की सुबह नशा छोड़ने वाली दवा लेने दत्ता रोड स्थित एक निजी सेंटर पर मोटरसाइकिल से आ रहा था, जैसे ही उसकी मोटरसाइकिल नई दाना मंडी के बाहर हाइवे पर पहुंची तो पीछे से आ रहे कैंटर ने साइकिल सवार पवन को अपनी चपेट में ले लिया। हादसे में पवन कुमार गंभीर रूप से घायल हो गया। राहगीरों ने उसे मथुरादास सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत गंभीर होने के कारण सिविल अस्पताल से उसे फरीदकोट मेडिकल कालेज रैफर कर दिया, जहां उसकी मौत हो गई। जांच अधिकारी एएसआई सिटी-1 जगहमोहन सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। कैंटर चालक हरविदर सिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया।

केस.3

एक अन्य हादसे में समालसर के निकट मोटरसाइकिल व स्कूटी की टक्कर में दो लोगों की मौत हो गई। थाना समालसर के जांच अधिकारी एएसआई जसवंत सिंह ने बताया कि गांव लंडे निवासी 65 साल के अजमेर सिंह पुत्र बंत सिंह अपनी स्कूटी से समालसर से गांव जा रहा था, विपरीत दिशा से लंडे-समालसर लिंक रोड पर समालसर निवासी 17 साल साल के सुखचैन सिंह पुत्र राजिदर सिंह मोटरसाइकिल से आ रहा था। रास्ते में मोटरसाइकिल व स्कूटी की आमने सामने की भिड़ंत हो गई। मोटरसाइकिल की स्पीड ज्यादा होने के कारण दोनों गंभीर रूप से जख्मी हो गए। गंभीर रूप से घायल अजमेर सिंह को मथुरादास सिविल अस्पताल लाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। दूसरे गंभीर घायल सुखचैन सिंह को फरीदकोट मेडिकल कालेज परिजन ले गए, वहां पहुंचकर सुखचैन की मौत हो गई। एएसआइ जसवंत सिंह के अनुसार दोनों शवों के पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है।

Edited By: Jagran