संवाद सहयोगी, मोगा : मथुरादास सिविल अस्पताल में नलबंदी आपरेशन करवाने पहुंची एक महिला के आठ महीने के बेटे को एक व्यक्ति चुप कराने के बहाने लेकर फरार हो गया। दिन दहाड़े अस्पताल से बच्चा लेकर गायब हुए व्यक्ति की सूचना मिलते ही जहां अस्पताल प्रशासन में अफरा-तफरी मची रही, वहीं डीएसपी सिटी जशनदीप सिंह, शहर के दोनों थानों के प्रभारी थाना सिटी-1 के इंस्पेक्टर चन्नन सिंह, थाना सिटी साउथ के प्रभारी इंस्पेक्टर लक्ष्मन सिंह, सीआइए स्टाफ के प्रभारी किक्कर सिंह सहित सादी वर्दी में पुलिस बल के जवानों ने बच्चे को लेकर गायब हुए व्यक्ति की तलाश शुरू कर दी है। परिजनों के अनुसार सुबह से ही ये व्यक्ति उनके आसपास ही घूम रहा था। बच्चे का परिवार आर्थिक रूप से काफी कमजोर है। क्या है मामला

गांव रौंता निवासी सिमर कौर पत्नी कर्मजीत सिंह अपनी सास परमजीत कौर व पति के साथ शनिवार को अस्पताल में नलबंदी आपरेशन के लिए सुबह सात बजे गायनी वार्ड में पहुंची थी। उसका एक तीन साल का बेटा है, जबकि एक आठ महीने का बेटा है। नलबंदी आपरेशन के बाद महिला गायनी वार्ड के बाहर ही एक बैंच पर लेटी हुई एंबुलेंस का इंतजार कर रही थी। चुप कराने के बहाने हुआ गायब

पीड़ित की सास परमजीत कौर ने बताया कि सुबह से ही खुद को चड़िक का निवासी बताने वाला एक व्यक्ति चाय आदि पूछकर उनसे नजदीकी बढ़ाने की कोशिश कर रहा था। इस व्यक्ति ने उसे बताया था कि उसकी बहन भी यहीं पर दाखिल है। दोपहर करीब साढ़े 12 बजे सिमर कौर एंबुलेंस के इंतजार में वार्ड के बाहर बैंच पर लेटी थी, तभी उसका आठ महीने का बच्चा अभिजोत रोने लगा। इसी दौरान सुबह से उनके आसपास घूम रहे व्यक्ति ने बच्चे को चुप कराने की बात कहकर गोद में उठा लिया। इसी दौरान सिमर कौर का पति कर्मजीत सिंह अपने तीन साल के बच्चे को टायलेट कराने चला गया। मौका पाकर बच्चे को गोद में लेने वाला व्यक्ति बच्चे को दूध पिलाने के बहाने कुछ दूर गया, मौका लगते ही तेजी के साथ लाल रंग के कपडों में बच्चे को लेकर अस्पताल के बाहर निकल गया। चीख पुकार शुरू हुई तो मची अफरा-तफरी

कर्मजीत वापस अपने बेटे को टायलेट कराकर लौटा तो न तो सुबह से उसके साथ घूम रहा व्यक्ति दिखा तो न ही बच्चा। उसे चिता हुई उसने अस्पताल परिसर में बच्चे को तलाशने की कोशिश की लेकिन बच्चा कहीं भी नहीं मिला तो बच्चे की मां व दादी ने चीख पुकार शुरू कर दी। इससे अस्पताल परिसर में बच्चा गायब होने की जानकारी मिलते ही अफरा तफरा मच गई। सूचना तत्काल पुलिस को दे दी गई। नहीं लगा बच्चे का कोई सुराग

मामला बच्चे के गायब होने का कारण खुद डीएसपी सिटी जशनदीप सिंह, थाना सिटी-1 के एसएचओ चन्नन सिंह, सिटी साउथ के प्रभारी लक्ष्मण सिंह, सीआइए स्टाफ के प्रभारी किक्कर सिंह, पुलिस की स्पेशल ब्रांच, सीआइडी ब्रांच के मुलाजिमों के साथ अस्पताल पहुंचे। उन्होंने एसएमओ डा. सुखप्रीत बराड़ के साथ अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगालना शुरू कर दिए। सीसीटीवी कैमरे में बच्चे को ले जाता हुआ व्यक्ति साफ तौर पर दिखा, वह तेजी के साथ नीले रंग की पेंट व सफेद, काले रंग की जैकेट पहने अस्पताल से बाहर जाता दिखाई देता है। व्यक्ति के चेहरे पर मास्क होने के कारण उसका चेहरा साफ नहीं पता चल पा रहा है। बाद में पुलिस ने अस्पताल से मेन बाजार को जाने वाले सभी रास्तों पर लगे सीसीटीवी कैमरे खंगालने शुरू कर दिए, लेकिन शाम को सात बजे तक बच्चे को ले जाने वाला व्यक्ति का कोई सुराग नहीं लग सका।

Edited By: Jagran