मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संस, बाघापुराना (मोगा) : पेंडू मजदूर यूनियन की ओर से मजदूरी मांग तथा दलितों से हो रहे भेदभाव के विरोध में रोष रैली निकाली। इसमें पेंडू मजदूर यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष तरसेम पीटर, प्रदेश सचिव बल¨वदर ¨सह भुल्लर, पूर्व जिलाध्यक्ष बलदेव ¨सह ¨सघावाला, सचिव मंगा ¨सह वैरोकें ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार की ओर से दस महीने के अपने शासन में हर घर में सरकारी नौकरी, रिहायशी प्लांट, 25 रुपये पेंशन तथा कर्ज माफी करने के वायदे को टालमटोल कर रही है। इस कारण मजदूरों के मन में कांग्रेस सरकार के प्रति रोष बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार अपने वायदे पूरे करने फेल साबित हुई है जो सहूलतें अकाली सरकार के समय लोगों को संघर्ष करके प्राप्त की थी वह भी कैप्टन सरकार ने बंद करके मजदूर विरोधी चेहरा सामने किया है। अकाली सरकार के चले जाने तथा कांग्रेस सरकार के आने से लोगों को कोई फर्क नहीं पड़ा बल्कि लोगों की हालत और भी खराब हुई है, क्योंकि दलितों की बिजली माफी की सहूलत खत्म की है, प्लांट देने से सरकार भाग रही है तथा कानूनी हक बनते पंचायती जमीन के तीसरे हिस्से पर दलितों को दूर रखा जा रहा है। पंचायती जमीन सिर्फ आर्थिक मुद्दा ही नहीं है गरीबों के मान सम्मान की ¨जदगी से जुड़ा मामला है। इस अवसर पर ब्लॉक सचिव बलकार ¨सह समालसर, हरबंस ¨सह रोडे ने कहा कि गांव दल्लूवाला में दलित परिवार पर हमला करने वालों के विरुद्ध तथा कोटला मेहर ¨सह वाला की महिला की मारपीट करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि मजदूरों को पांच-पांच मरले के रिहायशी प्लाट दिए जाएं, अलाट किए प्लाटों के कब्जे दिलवाए जाए, पंचायती जमीन का तीसरा हिस्सा मजदूरों को दिया जाए, बाकी बचती जमीन छोटे किसानों को कम रेट पर दी जाए, बिजली बिलों में बढ़ोतरी वापस ली जाए, मजदूरों पर कर्ज माफ किया जाए, बुर्जुगों को 25 रुपए पेंशन दी जाए, मनरेगा मजदूरों का बकाया दिया जाए। इस अवसर पर पंजाब स्टूडेंट यूनियन के प्रदेश सचिव कर्मजीत ¨सह कोटकपुरा, किरती किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष निर्भय ¨सह ढुडीके आदि ने भी संबोधित किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!