संसू, सरदूलगढ़: घग्गर दरिया में पानी आने से घग्गर पर बने दोनों पुल बंद कर दिए गए हैं, जिससे आसपास के लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शहर के दुकानदारों व मुलाजिमों को तीन के बजाय 15 से 20 किलोमीटर का रास्ता तय करना पड़ रहा है। इसके अलावा मानसा व सिरसा जाने वाले लोगों को दो किलोमीटर पैदल चल कर घग्गर के पार जाकर बस लेनी पड़ रही है। घग्गर के बढ़े पानी पर सरदूलगढ़ में राजनीति पिछले 35 साल से हलका सरदूलगढ़ के लोग घग्गर दरिया की दोहरी मार झेल रहे हैं। उनका कहना है कि किसी भी राजनीतिक पार्टी ने उनका दर्द नहीं समझा। हर साल घग्गर के पानी से सरदूलगढ़ व आसपास के दर्जनों गांवों में नुकसान होता है, जिससे किसानों को आर्थिक तौर पर काफी नुकसान उठाना पड़ता है। साथ ही घग्गर में जब बरसात का पानी नहीं होता तब पंजाब, हरियाणा व हिमाचल के शहरों का गंदा पानी व फैक्ट्रियों का केमिकल युक्त पानी घग्गर दरिया में डाल दिया जाता है, जिसके कारण लोग कई तरह की बीमारियों का शिकार हो रहे हैं।

इस समय घगर दरिया में बरसात का पानी आ जाने से बाढ़ की स्थिती बनी हुई है, जिसका लाभ लेने के लिए समूह राजनीतिक पार्टियों के संभावी उम्मीदवार वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए घग्गर दरिया का दौरा कर रहे हैं। बीते दिनों शिरोमणि अकाली दल के संभावी उम्मीदवार व हलका विधायक दिलराज सिंह भूंदड़ ने दौरा किया। इसके बाद कांग्रेस पार्टी के टिकट के दावेदार व जिला परिषद मानसा के चेयरमैन बिक्रम मोफर ने दौरा कर लोगों की मुश्किलों का जलद से जलद हल करने का भरोसा दिया गया। इसके बाद आम आदमी के नवनियुक्त हलका इंचार्ज गुरप्रीत सिंह बणांवाली ने भी दौरा कर प्रशासन के प्रबंधों को नाकाफी बताया।

Edited By: Jagran