जागरण संवाददाता, बठिडा, मानसा : उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों की कलश यात्रा यूपी से हरियाणा होती हुई बठिडा के भाई घन्हैया चौक में पहुंची। इसको आगे फिरोजपुर के हुसैनीवाला बार्डर के लिए रवाना किया गया। इससे पहले कलश यात्रा भीखी की अनाज मंडी में भी पहुंची। इस दौरान संयुक्त किसान मोर्चा व किसानों द्वारा मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। किसान नेताओं ने कहा कि लखीमपुर खीरी में घटी घटना बहुत ही निदनीय है, जिसका संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा लगातार विरोध जारी है।

उन्होंने कहा कि यह विरोध तब तक जारी रहेगा जब तक आरोपितों को सजा नहीं मिल जाती। उन्होंने केंद्र व योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र की सरकार किसानों को खत्म करना चाहती है। इसी नीति के कारण वह इन्हें कृषि कानूनों को वापस नहीं लेना चाहती। संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा चलाए गए आंदोलन को एक साल के करीब का समय हो चुका है, जिसमें 400 से ज्यादा किसानों की मौत हो चुकी है। मगर फिर भी मोदी सरकार देश के किसानों की बात नहीं सुन रही। उनका संघर्ष तब तक जारी रहेगा जब तक यह कृषि बिल वापस नहीं होंगे। इस मौके पर किरती किसान यूनियन के जिला प्रधान अमरजीत सिंह हनी, डीटीएफ जिला बठिडा के प्रधान जगपाल बंगी, किसान यूनियन गोबिदपुरा के प्रधान बख्शीश सिंह, जमूहरी किसान सभा के जिला प्रधान दर्शन सिंह, जगसीर सिंह जीदा, बलदेव सिंह संदोहा, हरप्रीत सिंह, गुरदीप सिंह, बलदेव सिंह, अजायब सिंह, मुख्तियार कौर, दर्शन मौड़, रणजीत सिंह, संपूर्ण सिंह आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran