विनोद जैन, सरदूलगढ़ : हर हफ्ते टूटने का कीर्तिमान अपने नाम करने वाली न्यू ढंडाल नहर कुछ दिनों पहले आए तूफान के कारण गांव नाहरां के पास फिर से टूट गई। नाहरां और मानखेड़ा गांवों के बीच टूटी नहर में 20 फुट के करीब दरार पड़ गई। जिस पर क्षेत्रवासियों ने विभागीय अधिकारियों का इंतजार किए बिना खुद मशीन मंगवाई तथा खुद ही दरार को बंद किया। गांव मानखेड़ा के शरनजीत ¨सह, झंडा कलां के सरपंच अमरीक ¨सह तथा बलजीत पाल ने बताया कि इस बारे में विभागीय अधिकारियों को सूचित किया, मगर वहां से कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद एसडीएम सरदूलगढ़ लतीफ अहमद को इस बारे में जानकारी दी और वह मौके पर पहुंचे। किसानों ने बताया कि नहर के साथ बेशक हमारी फसलें नहीं है, परन्तु हर हफ्ते नहर में दरार आने से क्षेत्र वासियों को भारी खतरा बना हुआ है। शरनजीत ¨सह ने बताया कि शाम को इलाके में तेज तूफान आया था। महकमे द्वारा रख-रखाव और साफ-सफाई की कमी के कारण किनारे खड़ा एक पेड़ नहर में जा गिरा, जिसके कारण नहर पूरी तरह से बंद हो गई और टूट गई। जब किसान म¨हदर ¨सह के खेतों की ओर नहर का पानी तेजी के साथ बढ़ रहा था तो सभी ने अपनी जेबों में से पैसे एकत्रित करके मशीन मंगवाई और सीमेंट से दरार को भरा। इन लोगों ने कहा कि उन्हें विभाग के अधिकारियों के खिलाफ भारी रोष है कि न्यू ढंडाल नहर में अब तक दर्जनों बार दरार पड़ने के बाद कभी उसे पक्का नहीं किया गया।

Posted By: Jagran