संवाद सहयोगी, रामपुरा फूल: माउंट लिटरा जी स्कूल रामपुरा फूल में वीरवार को विजयादशमी पर बच्चों को विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई। स्कूल के अध्यक्ष गगन बांसल, महासचिव नमिता बांसल तथा प्रिसिपल गीता पिल्लई ने उन्हें अच्छाई के रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित किया। इस मौके पर बच्चों के रामायण से संबंधित फैंसी ड्रेस मुकाबले भी करवाए गए। हनुमान जी ने फूंक डाली रावण की सोने की लंका श्री राम चरित्र कला केंद्र बठिडा की तरफ से आयोजित 28वीं अनुपम भेंट श्री राम लीला की सातवीं नाइट का मंचन बुधवार रात्रि स्थानीय एसएसडी सीनियर सेकेंडरी स्कूल बठिडा गोल डिग्गी में किया गया। प्रबंधक कमेटी के प्रधान व सीनियर कांग्रेस नेता पवन मानी व निर्देशक विनोद सिगला की अगुआई में आयोजित रामलीला का शुभारंभ रिबन काटकर किया गया।

रामलीला मंचन के सातवें दिन हनुमान के लंका पहुंचने, अशोक वाटिका तहस-नहस करने और सोने की लंका जलाने के मंचन को दर्शकों की खूब सराहना मिली। रावण के अभिनय को दर्शकों खूब सराहा। रामलीला मंचन का शुभारंभ हनुमान के लंका में प्रवेश से हुआ। हनुमान के अशोक वाटिका में माता सीता की अनुमति से फलाहार करने, बगीचे को तहस-नहस करने, अनेक राक्षसों को मारने का मंचन दर्शकों को खूब गुदगुदा गया। इस मौके पर नृत्य निर्देशक ललित कुमार बागड़ी, संगीत निर्देशक राकेश शर्मा, मोहन लाल मोहनी, गीतकार बृज मोहन शांत, ओमदत्त दीवाना, पंडित हुक्म चंद खलीली, मोहिदर सिंह बावरा, मेकअप कुक्कू जिदल, राज कुमार राजा, घुंघरू, कीर्ती, तरसेम लाल आदि ने सहयोग दिया।

इसी तरह भट्टी रोड पर श्री राम चंद्र कला केंद्र क्लब की तरफ से करवाई जा रही श्री रामलीला की सातवीं नाइट में बाली वध और लंका दहन का मंचन किया गया। कमेटी के प्रधान डा. प्रवीन गर्ग ने बताया कि शानदार प्रस्तुति को देखने के लिए दर्शक देर रात तक अपनी जगह पर बैठे रहे। इसके अलावा प्रभु राम का सीता की खोज में निकलने, जंगल में जटायु से मिलने, सुग्रीम द्वारा राम को सीता के गहने दिखाने, हनुमान को लंका भेजने, हनुमान द्वारा अशोक वाटिका को तहस-नहस करने और हनुमान द्वारा रावण की लंका को जलाने का मंचन किया गया।

Edited By: Jagran