जेएनएन, मानसा। एक नाबालिग लड़की ने गुरुद्वारा प्रधान पर उसे जलील करने व जातिसूचक शब्द कहने का आरोप लगाया। इससे आहत होकर युवती ने घर आकर जहरीला पदार्थ निगलकर आत्महत्या का प्रयास किया। उसे सिविल अस्पताल मानसा में दाखिल करवाया गया है। थाना भीखी पुलिस ने लड़की की शिकायत पर जांच शुरू कर दी है।

सिविल अस्पताल मानसा में इलाज करवा रही गांव फफड़े भाई निवासी नाबालिग लड़की रणजीत कौर की मां सरबजीत कौर ने बताया कि उसकी सास गुरूद्वारे में लंबे समय से सेवक के तौर पर काम करती आ रही है। इस कारण वह दो दिन पहले शाम के समय पर बेटी के साथ जब गुरूद्वारे गई तो देखा कि लोग वहां बर्तनों में से खीर लेकर जा रहे हैं। उन्होंने सोचा कि घर में सभी बीमार हैं। इस कारण रणजीत कौर वहीं से दाल बर्तन में डालकर अपने घर को जा रही थी।

लड़की के मुताबिक इसी दौरान भाई बहलों गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष अवतार सिंह ने उसे रोका और बाद में पीछे आकर उनको जाति सूचक शब्द बोल कर बुरी तरह जलील किया। जो दाल वह लेकर आ रही थी वह भी प्रधान ने वापस मंगवाकर कड़ाहे में डलवा ली। इसे लेकर गांव के लोगों सामने उनको बुरी तरह जलील किया गया।

सरबजीत कौर ने बताया कि इसे बेइज़्ज़ती मान कर उनकी दसवीं क्लास में पढ़ने वाली बेटी ने सलफास निगल ली। इसके कारण उसकी हालत बिगड़ने लगी और उसे सरकारी अस्पताल मानसा में दाखिल करवाया गया।

यह भी पढ़ेंः पांच युवक युवती को अगवा कर करते रहे गैंगरेप, होश में आने पर कर देते थे बेहोश

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!